• ‘घृणा की राजनीति और उसका प्रतिरोध’ पर सेमीनार
  • मोदी विरोधी वोट विपक्ष की आपसी लड़ाई में बंटने नहीं चाहिए
  • गणतंत्र को बचाना है तो भाजपा को सत्ता से बेदखल करना होगा

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून । भाकपा(मार्क्सवादी) के राष्ट्रीय महासचिव सीताराम येचुरी ने आगामी लोकसभा चुनाव की तुलना महाभारत से करते हुए  कहा कि यह लोकसभा चुनाव मोदी बनाम जनता की लड़ाई है। हमारी कोशिश होनी चाहिए, मोदी विरोधी वोट आपस में बंटे नहीं। उन्होंने कहा अगर देश के गणतंत्र को बचाना है तो भाजपा को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाना होगा। 

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी(मार्क्सवादी) की उत्तराखंड कमेटी ने नगर निगम सभागार में ‘घृणा की राजनीति और उसका प्रतिरोध’ पर सेमीनार का आयोजन किया। इसमें पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सीताराम येचुरी, पोलित ब्यूरो के सदस्य तपन सेन और केंद्रीय कमेटी के सदस्य बीजू कृष्णन शामिल रहे। 

सेमीनार में सीताराम येचुरी ने लोकसभा चुनाव की तुलना महाभारत से करते हुए कहा कि कौरवों को भी इस बात का अहंकार था कि हम सौ हैं। पांच पांडव हमारा क्या बिगाड़ लेंगे, लेकिन उनका क्या हश्र हुआ ये बताने की अब जरूरत नहीं है। 

उन्होंने चुटकी लेते कहा कि कौरवों में दुर्योधन और दुष्शासन के अलावा आपको कितने लोगों के नाम याद हैं। आज बार-बार ये बात कही जा रही है कि मोदी का विकल्प नहीं है। जब वाजपेयी पीएम थे, तब भी यही बात कही गई थी, लेकिन उनके बाद मनमोहन सिंह ने लगातार दस साल तक सरकार चलाई। 

येचुरी ने कहा कि देश महात्मा गांधी की पुण्यतिथि मना रहा है। जिस तरह के घृणा और नफरत के माहौल में उनकी हत्या की गई देश में फिर वही माहौल तैयार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि गणतंत्र को बचाना है तो भाजपा को सत्ता से बाहर करना होगा। यह मोदी बनाम जनता की लड़ाई है। मोदी विरोधी वोट बंटने नहीं चाहिए। 





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top