देहरादून : उत्तराखंड पुलिस को यूं ही मित्र पुलिस नहीं कहते बल्कि कई ऐसे कर्तव्यनिष्ठ और ईमानदार पुलिसकर्मी हैं जिन्होने इसे साकार किया…एक ओर जहां कई वर्दीधारियों ने वर्दी पर लांछन लगाने का काम किया तो वहीं कई जगह ऐसे पुलिस वाले भी हैं जो मित्र पुलिस इस नाम को साकार करने की कोशिश भी कर रही है और जनता के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने की कोशिश कर रही है. बात करें एसडीआरएफ पुलिस की या ट्रैफिक पुलिस की दिन रात जनता की सेवा के लिए तत्पर हैं.

सभी वाकिफ हैं कि 22 जनवरी के प्रदेश भर के पर्वतीय़ इलाकों में बर्फबारी के साथ बारिश हुई औऱ साथ ही मैदानी इलाकों में भी बारिश हुई जिससे ठंड बढ़ गई. वहीं ऐसे में पर्वतीय क्षेत्रों में कई मार्ग(टिहरी-सुवाखोली, बद्रीनाथ हाइवे) बंद हो गए जिससे कई जगह लंबा जाम लग गया और लोगों को परेशानी हुई…ऐसे में मित्र पुलिस ने लोगों का साथ दिया और उनका भरोसा जीता.

एक ओर जहां पर्यटक बर्फबारी का लुत्फ उठा रहे हैं तो वहीं राज्य की मित्र पुलिस जनता की हर तरह से मदद करने के लिए डटी है चाहे फिर बर्फबारी हो या बारिश. बर्फ से जाम रास्तों को खुलवाने और बर्फ को खुद साफ करने का काम पुलिस कर रही है.

पौड़ी धूमाकोट-भौन मोटर मार्ग पर भारी बर्फबारी के कारण रास्ता साफ

बात करें पौड़ी धूमाकोट-भौन मोटर मार्ग पर भारी बर्फबारी की तो वहां बर्फबारी के कारण फंसे कई बड़े-छोटे वाहनों को बर्फ से निकालने में पुलिस ने मदद की…पुलिस ने खुल फावड़ा उठाकर रास्ता साफ किया. जिससे जनता का विश्वास जीतने और सोच को बदलने की कोशिश पुलिस ने की. एक औऱ जहां ठंड में लोग रजाई में दुबके हैं ऐसे में पुलिस बाहर दिन रात ड्यूटी कर रही है.

वहीं चमोली सहित टिहरी में हुए हादसे में एसडीआरएफ की टीम ने भरी ठंड में रेस्क्यू कर घायलों औऱ मृतकों को खाई से बाहर निकाला औऱ घायलों को अस्पताल पहुंचाया.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top