सोमवार, 21 जनवरी को पौष मास की पूर्णिमा है, इसी दिन पर चंद्र ग्रहण भी हो रहा है. इससे पहले भारतीय समय अनुसार 5-6 जनवरी के बीच की रात सूर्य ग्रहण हुआ था, जो कि भारत में दिखाई नहीं दिया था. 21 जनवरी को होने वाला ग्रहण भी भारत में दिखाई नहीं देगा.

चंद्र ग्रहण का समय और कहां-कहां दिखाई देगा

चंद्र ग्रहण भारतीय समय अनुसार 21 जनवरी की सुबह 9.04 मिनट से शुरू होगा और इसका मोक्ष 12 .21 मिनट पर होगा. ये ग्रहण मध्य-पूर्व अफ्रीका, यूरोप, अमेरिका, पूर्वी रूस में दिखाई देगा.

कब होता है चंद्र ग्रहण
जब चंद्र पर पृथ्वी की छाया पड़ती है, तब चंद्र ग्रहण होता है. इस दौरान सूर्य, पृथ्वी और चंद्र एक लाइन में आ जाते हैं. ग्रहण से 12 घंटे पहले सूतक शुरू हो जाता है, लेकिन इस ग्रहण का सूतक भारत में नहीं रहेगा, क्योंकि यहां ग्रहण दिखाई नहीं देगा.

चंद्र ग्रहण से जुड़ी धार्मिक मान्यता
धार्मिक मान्यता है कि जब राहु चंद्र या सूर्य को ग्रसता है, तब ग्रहण होता है. इस संबंध में कथा प्रचलित है कि प्राचीन काल में असुर राहु ने देवताओं के साथ भेष बदलकर अमृतपान किया था. सूर्य और चंद्र ने राहु को पहचान लिया और भगवान विष्णु को ये बात बताई. इसके बाद भगवान विष्णु ने राहु का मस्तक धड़ से अलग कर दिया था. चंद्र-सूर्य से बदला लेने के लिए राहु इन ग्रहों को ग्रसता है.

चंद्र ग्रहण के समय क्या करें
ग्रहण के समय मंत्र जाप करना चाहिए. इस दौरान पूजा-पाठ नहीं करनी चाहिए. ग्रहण समाप्ति के बाद पूरे घर की सफाई करनी चाहिए. ग्रहण से पहले खाने-पीने की चीजों में तुलसी के पत्ते डालकर रखना चाहिए. इससे खाने पर ग्रहण की नकारात्मक किरणों का असर नहीं होता है.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top