मेघालय की अवैध कोयला खदान में फंसे खनिकों को खोजने के लिए खोज अभियान जारी है. पूर्वी जयंतिया हिल्स में लिट्टिन नदी के पास केन्स में खदान से एक शव बरामद हुआ. शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया. बता दें कि इस खदान में पिछले साल 13 दिसंबर से खनिक फंसे हुए हैं. 15 खनिक 13 दिसंबर को खदान में अचानक पानी भर जाने से फंस गए थे.

खदानों में अपने काम के लिए महारथ रखने वाले वैज्ञानिकों की एक शीर्ष टीम बचाव अभियान में इस बचाव अभियान को देश का सबसे लंबा चलने वाला बचाव अभियान बताया जा रहा है.

बचाव अभियान में कई सरकारी एजेंसियों के करीब 200 कर्मी लगे हुए हैं, जिसमें नौसेना और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल के अलावा कोल इंडिया और किर्लोस्कर ब्रदर्स लि के कर्मी शामिल हैं. बचाव अभियानों की निगरानी कर रहे सुप्रीम कोर्ट ने बचाव एजेसियों को खनिकों को जीवित या मृत बाहर निकालने का निर्देश दिया है.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top