राजस्थान में स्वाइन फ़्लू से मरने वालों की संख्या साल 2019 में 100 के पार हो गई है. लाख कोशिशों के बावजूद भी बीमारी अब तक काबू में नहीं आ रही. अब तक देश में स्वाइन फ़्लू के 2,793 दर्ज हो चुके है. दरसल राजस्थान में एक सौ स्वाइन फ्लू के केस सामने आये है और सरकार घर-घर जा के जांच में जुटी है. लेकिन सबसे बड़ी चुनौती है स्वाइन फ्लू की जांच. पूरे प्रदेश में सिर्फ 12 जगह इसके जांच होती है.

दिल्ली में अब तक छह लोगों की मौत हुई है. हरियाणा और तेलंगाना में क्रमश: स्वाइन फ्लू के 589 और 390 मामले दर्ज किए गए हैं और इस बीमारी की वजह से दोनों राज्यों में दो लोगों की मौत हुई है. स्वाइन फ्लू के बढ़ते मामलों को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी राज्यों से इस बीमारी के शुरुआती लक्षणों पर निगरानी बढ़ाने को कहा है और इस बीमारी से निपटने के लिए अस्पतालों में बेड रिजर्व रखने को कहा गया है. इंफ्लुएंजा के टीकाकरण के लिए दिशानिर्देश और ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया की ओर से प्रदान किए गए टीकों के उत्पानदकर्ताओं का विवरण सभी राज्यों के साथ साझा किया गया है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार देश भर में राजस्थान में सबसे ज्यादा मौते हुई हैं और शनिवार तक 2,793 मामले सामने आए हैं. इसके बाद गुजरात में 54 मौतें हुईं और 1,187 मामले सामने आए हैं. पंजाब में इस बीमारी की वजह से 30 लोगों की मौत हो चुकी है और 301 मामले सामने आ चुके हैं, महाराष्ट्र में अब तक 13 लोगों की मौत हो चुकी है और 197 मामले सामने आए हैं. दिल्ली 28 जनवरी तक स्वाइन फ्लू के मामले में 28 जनवरी तक राजस्थान और गुजरात के बाद तीसरे स्थान पर था.

100 deaths have occurred between 1 January 2019 and 8 February 2019 in Rajasthan due to swine flu. Total positive cases were 2,793.— ANI (@ANI) February 9, 2019





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top