भारत के 40वें संचार उपग्रह जीसैट-31 को बुधवार तड़के सफलतापूर्वक उसकी कक्षा में स्थापित कर दिया गया. भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो और एरिएनस्पेस ने कहा कि इसे एरियनस्पेस से एरिएन 5 रॉकेट से प्रक्षेपित किया गया था. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अनुसार, दूरसंचार उपग्रह जीसैट-31 छह फरवरी को फ्रेंच गुयाना स्थित कोरो प्रक्षेपण केंद्र से एरिएन-5 से सफलतापूर्वक छोड़ा गया था. 2,535 किलोग्राम वजनी जीसैट-31 भूस्थैतिक कक्षा में कू-बैंड ट्रांसपोंडर क्षमता को बढ़ाएगा.

इसरो के अनुसार, 15 वर्ष के जीवन वाले जीसेट-31 को वीसैट का उपयोग नेटवर्क्‍स, टेलीविजन अपलिंक्स, डिजिटल सैटेलाइट समाचार इकट्ठे करने, डीटीएस टेलीविजन सेवाओं, सेलुलर आधारित कनेक्टिविटी और अन्य कामों में किया जाएगा. इसरो ने कहा कि जीसैट-31 कुछ इन-ऑर्बिट उपग्रहों पर परिचालन सेवाओं को जारी करेगा.

एरिएनस्पेस के अनुसार, उसने दो संचार उपग्रहों- सऊदी जियोस्टेशनरी सैटेलाइट1/हेलास सैट 4 (एचएस-4/एसजीएस-1) और जीसैट-31 को सफलतापूर्वक कक्षा में स्थापित कर अपना 2019 का मिशन शुरू कर दिया है.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top