मध्य प्रदेश में इस साल के शुरुआती दो माह में स्वाइन फ्लू से 35 मरीजों की मौत हो चुकी है. मुख्यमंत्री कमलनाथ ने स्वाइन फ्लू से हो रही मौतों पर चिंता जताई है.

राज्य में स्वाइन फ्लू से हो रही मौतों पर स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट ने गुरुवार को यहां बताया, “राज्य में इस साल 35 मरीजों की मौत हो चुकी है. इस रोग को नियंत्रित करने के लिए विभाग की ओर से प्रयास जारी है. सभी चिकित्सालयों में चिकित्सक अपनी सेवाएं दे रहे हैं, स्वास्थ्य महकमा 24 घंटे मुस्तैद है.”

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार, इंदौर में 13, भोपाल में 10 और ग्वालियर में चार मरीजों की मौत हुई हैं. राज्य में अब तक स्वाइन फ्लू के 300 संदिग्ध मरीज सामने आए, जिनमें से 60 में स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है.

वहीं मुख्यमंत्री कमलनाथ की ओर से जारी एक बयान में स्वाइन फ्लू पर चिंता जताई गई है.

उन्होंने प्रदेश के तमाम स्वास्थ्य अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि इसकी रोकथाम को लेकर तत्काल आवश्यक कदम उठाए जाएं. उन्होंने स्वीकार किया कि इंदौर में स्वाइन फ्लू से मौतों का आंकड़ा निरंतर बढ़ता जा रहा है. जांच के अभाव में व रिपोर्ट आने में लंबा वक्त लगने के कारण बड़ी संख्या में लोगों की मौत हो रही है, जो कि चिताजनक है.

उन्होंने कहा है कि इंदौर में शीघ्र वायरोलजी लैब का काम शुरू किया जाएगा. इंदौर में निíमत होने वाली वायरोलजी लैब में स्वाइन फ्लू की जांच सुनिश्चित हो, इसको लेकर भी सरकार आवश्यक सारे कदम उठाएगी.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top