कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किसानों को छह हजार रुपये सालाना दिए जाने की योजना को लेकर तंज कसते हुए कहा कि प्रधानमंत्री को डराकर उनसे कोई भी काम कराया जा सकता है.

यहां जम्बूरी मैदान में शुक्रवार को आयोजित आभार सम्मेलन में राहुल ने कहा, “मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान में कांग्रेस की सरकारों ने किसानों के कर्ज माफ किए. आगे भी जिन राज्यों में कांग्रेस की सरकार आएगी, वहां के मुख्यमंत्री किसानों के कर्ज माफ करेंगे. किसान कोई तोहफा नहीं चाहता है, भीख नहीं चाहता है, उसे अपना हक चाहिए.”

राहुल ने किसानों को 6,000 रुपये वार्षिक दिए जाने के केंद्र सरकार के निर्णय पर तंज कसते हुए कहा, “जैसे ही राज्यों में कांग्रेस की सरकारें आईं और किसानों के कर्ज माफ किए गए, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी घबरा गए और उन्होंने खुद को किसानों का हमदर्द बताया. इससे साफ हो गया है कि नरेंद्र मोदी को डराकर उनसे कोई भी काम कराया जा सकता है.”

लोकसभा में किसानों के लिए इस सुविधा की घोषणा के दौरान के नजारे का जिक्र करते हुए गांधी ने कहा, “लोकसभा में भाजपा सांसदों ने पांच मिनट तक मेज थपथपाई. बाद में पता चला कि किसानों को 17 रुपये दिन का दिया गया है. एक तरफ देश के 15 सबसे अमीर उद्योगपतियों के साढ़े तीन लाख करोड़ रुपये माफ किए जाते हैं, वहीं दूसरी ओर किसान परिवार को 17 रुपये. अगर इसका विभाजन किया जाए तो एक व्यक्ति के हिस्से में साढ़े तीन रुपये आते हैं. यह तो कमाल हो गया.”

राहुल इससे पहले विशेष विमान से दिल्ली से भोपाल पहुंचे. हवाईअड्डे पर कांग्रेस नेताओं से मंत्रणा के बाद वह हेलीकाप्टर से जम्बूरी मैदान पहुंचे. गांधी के साथ कांग्रेस महासचिव व प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया, सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया भी दिल्ली से भोपाल आए हैं.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top