रविवार को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने आई.आई.पी. हर्रावाला में पावर ट्रांसमिशन कॉर्पोरेशन ऑफ उत्तराखण्ड लिमिटेड की 220/33 के.वी. विद्युत सब स्टेशन का लोकार्पण किया. कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सब स्टेशन उत्तराखण्ड का प्रथम 220 के.वी.जी.आई.एस. सिस्टम युक्त उप संस्थान है. राज्य सरकार की कोशिश है कि प्रदेश में इस प्रकार के अन्य उप संस्थान शीघ्र ही खोले जाएं. उन्होंने कहा कि जीआईएस सिस्टम युक्त इस प्रकार के संस्थान से विद्युत आपूर्ति में गुणात्मक सुधार होगा. राज्य सरकार की कोशिश है कि प्रदेशवासियों को क्वालिटी और क्वांटिटी की दृष्टि से अच्छी और अधिक विद्युत उपलब्ध कराएं. मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार सौर ऊर्जा पर भी फोकस कर रही है.

यह अक्षय ऊर्जा है, जिसके उत्पादन को बढ़ाने के प्रयास किए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार विद्युत को बढ़ाने के साथ साथ विद्युत को बचाने के लिए भी कार्य कर रही है. रुद्रप्रयाग की एक तहसील को पूर्ण रूप से एल.ई.डी. युक्त कर दिया गया है. इससे लगभग तीन करोड़ यूनिट सालाना बिजली की बचत होगी. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार इसके लिए कोटाबाग और थानों में एल0ई0डी0 निर्माण का प्रशिक्षण दे रही है. मुख्यमंत्री ने अपील की कि हम सभी को विद्युत को बचाने के प्रयास करने होंगे, तभी हमें ऊर्जा का संचयन करने में सफलता मिलेगी.

उन्होंने कहा कि हमें घरों में एल.ई.डी. के प्रयोग पर ध्यान देना होगा, इसमें एक तिहाई विद्युत ही खर्च होती है. यह ऊर्जा को बचाने का सबसे आसान और किफायती तरीका है. मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में शीघ्र ही एक नेशनल लॉ कॉलेज का शिलान्यास सहित कैंसर और जच्चा बच्चा के लिए अस्पताल का भी शिलान्यास किया जाएगा. इस अवसर पर विधायक उमेश शर्मा काऊ एवं एमडी पिटकुल संदीप सिंघल भी उपस्थित थे.







0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top