• बड़े भाई के पहुँचने के बाद किया जायेगा अंतिम संस्कार !

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून । राजौरी के नौशेरा सेक्टर में आइईडी को डिफ्यूज करते वक्त हुए विस्फोट में शहीद हुए मेजर चित्रेश बिष्ट का पार्थिव शरीर रविवार प्रातः जम्मू से सेना के विशेष विमान से देहरादून के जौलीग्रांट एयरपोर्ट लाया गया। इस दौरान वहां सेना के अधिकारियों ने शहीद को श्रद्धांजलि अर्पित की। यहां से सेना के हेलीकॉप्टर से पार्थिव शरीर को देहरादून लाया गया है । पार्थिव शरीर सैनिक सम्मान के साथ मिलि‍ट्री हॉस्पिटल देहरादून लाया गया है ।

सोमवार सुबह 9 बजे तक पार्थिव शरीर को सैन्य हॉस्पिटल देहरादून में रखा जाएगा। सोमवार दोपहर को पार्थिव शरीर को सैनिक और राजकीय सम्मान के साथ लाया शहीद के घर लाया जाएगा। उम्मीद जताई जा रही है कि सोमवार सायं तक शहीद का अमेरिका में नौकरी कर रहा बड़ा भाई नीरज भी पहुँच जाएगा उसके बाद ही अंतिम संस्कार की प्रक्रिया पूर्ण की जाएगी।

गौरतलब हो कि जम्मू कश्मीर में तैनात मेजर चित्रेश बिष्ट राजौरी के नौशेरा सेक्टर में एलओसी के पास जांच के लिए जा रहे थे। इस दौरान वहां लगाए गए आइईडी को डिफ्यूज करते वक्त विस्फोट हो गया, जिसमें वो शहीद हो गए थे। वहीं, राज्यपाल बेबी रानी मौर्य और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मेजर चित्रेश बिष्ट की शहादत पर दुख जताया है।

मूलरूप से अल्मोड़ा जिले के पिपली निवासी मेजर चित्रेश बिष्ट उर्फ सोनू का परिवार देहरादून के नेहरू कॉलोनी में रहता है। उनके पिता एसएस बिष्ट रिटायर्ड पुलिस इंस्पेक्टर हैं। मेजर चित्रेश के 18 दिन बाद शादी थी। बेटे के शहीद होने की खबर के बाद शादी की तैयारियां मातम में बदल गई। जिसने भी खबर सुना, वह गमगीन परिवार को ढाढ़स बंधाने बिष्ट परिवार के घर पहुंचने लगा है। वहीं रविवार को कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत भी उनके आवास पर परिवार को ढांढस बंधाने पहुंचे। 





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top