भारत द्वारा पाकिस्तानी के दो शूटर्स को दिल्ली का वीजा न देने पर अंतरराष्ट्रीय ओलंपिक कमेटी ने भारत में आगामी खेलों के आयोजन पर रोक लगा दी है. साथ ही आईओसी ने सभी अंतरराष्ट्रीय खेल संघों से अपील की है कि वह भी भारत में खेलों का आयोजन न होने दें.

तब कर यहां पर खेलों का आयोजन नहीं होगा.-आलोंपिक कमेटी

इस फैसले के बाद ओलंपिक कमेटी ने भारत से सभी तरह की बातचीत बंद कर दी है. साथ ही भारत से गारंटी मांगी गई है कि जब तक वह ओलंपिक चार्टर को पूरा करने के लिए सरकार की मंजूरी नहीं लेता, तब कर यहां पर खेलों का आयोजन नहीं होगा. बता दें पाकिस्तान ने इस विश्व कप के लिए दो निशानेबाजों जीएम बशीर और खलील अहमद के लिए वीजा आवेदन किया था. दोनों निशानेबाज रैपिड फायर वर्ग के थे, जिन्हें वीजा नहीं दिया गया.

खिलाड़ियों को वीजा न देना ओलंपिक चार्टर के उसूलों के खिलाफ है-कमेटी

कमेटी का कहना है कि प्रतिस्पर्धा में भाग लेने आ रहे खिलाड़ियों को वीजा न देना ओलंपिक चार्टर के उसूलों के खिलाफ है. खिलाड़ियों के साथ कोई भी मेजबान देश इस तरह का भेदभाव नहीं कर सकता. कमेटी ने आखिरी वक्त तक इस मसले को सुलझाने की कोशिश की लेकिन भारत की ओर से पाकिस्तानी खिलाड़ियों को वीजा नहीं दिया गया. इसके बाद IOC की ओर से यह फैसला लिया गया है. भारत की ओर से दायर आगामी खेलों की याचिकाओं को भी होल्ड पर डाला गया है. साथ ही कमेटी ने अन्य अंतरराष्ट्रीय खेल संघों से अपील की है कि वह भी भारत में खेलों का आयोजन न होने दें, जब तक कि भारत सरकार लिखित में खिलाड़ियों को शामिल करने की गांरटी न ले.

पुलवामा हमले से गुस्सा

गौर हो की पुलवामा हमले में देश के 40 जवान शहीद हो गए थे. जिसकी जिम्मेदारी पाकिस्तानी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली है. भारत का मानना है कि पाकिस्तान इस आतंकी संगठनों को पनाह देता है और इनके खिलाफ कोई कार्रवाई भी नहीं करता.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top