• राष्ट्रीय शीतकालीन खेल के रद्द होने की खबर से इलाकेवासी मायूस 
  • प्रदेश की स्की संघ और भारतीय ओलंपिक संघ में नहीं है तालमेल 
  • इंटरनेशनल स्की फेडरेशन औली की खूबसूरत स्लोप की मान्यता कर सकता है रद्द

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

जोशीमठ : विंटर डेस्टिनेशन औली की मेजबानी में होने वाले राष्ट्रीय शीतकालीन खेल के रद्द होने की खबर से औली में स्की प्रेमियों के अलावा एडवेंचर एसोसिएशन और होटल एसोसिएशन ने उत्तराखंड सरकार के पर्यटन विकास परिषद् और प्रदेश सरकार की बर्फ से ईको फ्रेंडली कब्र एवं ममी बनाकर विरोध प्रदर्शित किया। विरोध इस अनूठी तरह के प्रदर्शन के दौरान एडवेंचर एसोसिएशन, औली होटल एसोसिएशन औली के साथ स्कीएसोसिएसन औली एवं पर्यटन से जुड़े कारोबारियों ने प्रदेश सरकार सहित पर्यटन विभाग सहित उत्तराखंड स्की फेडरेशन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए विरोध दर्ज किया।

इस अवसर पर होटल एसोसिएशन औली के अध्यक्ष शाह ने कहा की पर्याप्त बर्फबारी के बाद भी जिस तरह से औली में विंटर गेम्स कैंसिल कराए जा रहे हैं वह औली पर्यटन विभाग एवं प्रदेश सरकार की नाकामयाबी का जीता जागता सबूत है। उन्होंने कहा कभी बर्फ न पड़ने के कारण तो कभी यहाँ की ढ़लानों पर करोड़ों रुपये की लागत से लगायी गयी बर्फ बंनाने की मशीन के काम न करने के कारण यहां के शीतकालीन खेल प्रेमियों की प्रतिभा का दमन किया जाता रहा है और इस बार पर्याप्त बर्फ पड़ने के बावजूद शील कालीन खेलों का आयोजन से हाथ खींच लेना स्की फेडरेशन और पर्यटन विभाग की पोल खोलने के लिए काफी है। 

वहीं एडवेंचर एसोसिएशन जोशीमठ के सचिव संतोष कुमार ने कहा कि औली में विंटर गेम्स का ना होना काफी दुर्भाग्यपूर्ण है। विंटर गेम एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड पर्यटन विभाग के साथ प्रदेश सरकार का तालमेल सही नहीं होने के कारण भारतीय ओलंपिक संघ अभी तक औली में राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता के आयोजन हेतु हामी नहीं भर पा रहा है।

वहीं अंतरराष्ट्रीय स्कीयर विवेक पंवार का कहना है कि प्रदेश की स्की संघ भारतीय ओलंपिक संघ के साथ तालमेल नहीं बिठा पा रही है। मान्यता को लेकर अब तक पेंच फंसा हुआ है। जिसका खामियाजा हिम क्रीडा स्थली औली को भुगतना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि यदि इस बार औली में कोई एक अंतरराष्ट्रीय स्की प्रतियोगिता नहीं हुई तो इंटरनेशनल स्की फेडरेशन औली की खूबसूरत नंदा देवी स्लोप की मान्यता रद्द भी कर सकता है।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top