देहरादून : यूं तो दून अस्पताल आए दिन किसी न किसी कारनामे के कारण सुर्खियों में रहता ही है वहीं एक बार फिर से दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल चर्चाओं का विषय बन गया है. जिससे स्वास्थय विभाग में हड़कंप मच गया है.

ये है सबसे हैरान कर देने वाली बात

जी हां दून अस्पताल में नौकरी दिलाने के नाम पर बड़े फर्जीवाड़े का मामला सामने आया है. दरअसल एक महिला ने खुद को अस्पताल की नर्स बताकर कुछ युवतियों को फर्जी ढंग से फार्मेसिस्ट और अन्य पदों पर नियुक्ति दे दी। वहीं हैरान कर देने वाली बात ये है कि उन्हें न केवल पहचान पत्र जारी किए बल्कि पंजीकरण पंजिका पर सिग्नेचर भी कराए।वहीं फर्जीवाड़े का मामला सामने आने के बाद स्वास्थय विभाग में हड़कंप मचा हुआ है.

चिकित्सा अधीक्षक डॉ. केके टम्टा ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए स्टाफ और सुरक्षा कर्मियों को संबंधित महिला की कोई भी जानकारी लगते ही तुरंक सूचना देने को कहा साथ ही कहा कि लिखित शिकायत मिलने पर मुकदमा दर्ज कराया जाएगा।

महिला ने युवतियों से लिए 20-25 हजार रुपये

दरअसल हुआ यूं की पांच युवतियां सोमवार को दून अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. केके टम्टा से मिलीं। उन्होंने बताया कि खुद को स्टाफ नर्स बताने वाली एक महिला ने उन्हें अस्पताल में फार्मेसिस्ट, टीबीएचवी और अन्य पदों पर नियुक्ति देने की बात कही थी। साथ ही बताया कि इसके लिए महिला ने कहा था कि वह अपने स्तर पर उनका पंजीकरण करा देगी। इसके एवज में महिला ने इन युवतियों से 20-25 हजार रुपये भी लिए औऱ युवतियों को पहचान पत्र जारी किया.

महिला पहले भी फर्जी प्रकरण में पकड़ी गई थी

वहीं चिकित्सा अधीक्षक ने इन युवतियों से महिला का फोटो मांगा है। जिसे अस्पताल के स्टाफ और सुरक्षा गार्ड को सर्कुलेट किया जाएगा। उनका कहना है कि पहचान पत्र पर उनका नाम दिया गया है। इस पर हस्ताक्षर फर्जी हैं और कोई मुहर भी नहीं लगी। अस्पताल में कार्यरत अन्य स्टाफ का कहना है कि फर्जी नियुक्ति प्रकरण ये महिला पहले भी ऐसेही मामले में पकड़ी गई थी जिसे मोहलत देकर छोड़ दिया गया था. खास बात यह कि वह महिला सभी को अलग-अलग नाम बताती है।

अस्पताल बना पार्क, कोई भी आता है और चला जाता है

लेकिन बड़ा सवाल ये है कि अस्पताल में कोई भी आकर ऐसे लोगों को नियुक्ति के नाम पर ठगी करने चला जाता है औऱ अस्पताल के किसी भी सदस्य को इसकी भनक तक नहीं लगती…क्या अस्पताल आम जनता के लिए धूमने फिरने वाला पार्क बन गया है जो की कोई भी आता और चला जाता है…इससे अस्पताल प्रबंधन पर कई सवालिया निशान खड़े हो रहे हैं.

डॉ. थपलियाल ने इस मामले में पुलिस में मुकदमा दर्ज कराया है। जिसकी जांच चल रही है। इस प्रकरण में भी दून अस्पताल की कथित नर्स का नाम सामने आया था।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top