मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सोमवार को विधानसभा में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की प्रगति की समीक्षा की. मुख्यमंत्री ने सभी कार्यदायी संस्थाओं को निर्धारित लक्ष्यों को तय समयसीमा में पूर्ण करने के निर्देश दिए. उन्होंने कहा कि सड़कों के निर्माण कार्य में गति के साथ-साथ गुणवत्ता का भी विशेष ध्यान रखा जाए. उन्होंने कार्य कि गति में तेजी लाने के निर्देश देते हुए कहा कि हम सभी को टीम भावना से कार्य करते हुए उत्तराखण्ड को देश के सर्वश्रेष्ठ राज्य के तौर पर स्थापित करना है. इसमें सरकार, शासन, प्रशासन, विभिन्न संस्थाओं व राज्य के सभी नागरिकों को मिलकर कार्य करना होगा.

बैठक के दौरान मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत बनाई जा रही सड़कों पर विस्तार से चर्चा की. बैठक में बताया गया है कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत उत्तराखंड राज्य को वर्ष 2017-18 में 1500 किलोमीटर लंबाई के लक्ष्य के सापेक्ष राज्य में 1839 किलोमीटर सड़कों का निर्माण किए जाने पर देश में प्रथम एवं 172 बसावटों के संयोजन के लक्ष्य के सापेक्ष 207 बसावटों को संयोजित किए जाने पर देश में द्वितीय स्थान प्राप्त करने पर ग्रामीण विकास मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा प्रशस्ति पत्र एवं पुरस्कार प्रदान किया गया है, तथा राज्य की सराहना की गई है.

इस अवसर पर मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह, प्रमुख सचिव मती मनीषा पवार, सीईओ पीएमजीएसवाई उदयराज, महाप्रबंधक एनपीसीसी एस.पी. राव, महाप्रबंधक ब्रिडकुल प्रदीप गैरोला, वरिष्ठ महाप्रबंधक वापकोस ए.के. गहलोत एवं मुख्य अभियंता गढ़वाल पीएमजीएसवाई राजेन्द्र गोयल सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top