• आईईडी को डिफ्यूज करते समय हुए विस्फोट में दी शहादत 
  • सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मेजर बिष्ट की शहादत पर किया  दुःख व्यक्त
देवभूमि मीडिया ब्यूरो 
देहरादून :  पुलवामा में प्रदेश के सीआरपीएफ के दो जवानों की चिता की आग अभी ठंडी भी नहीं हुई थी कि जम्मू-कश्मीर में एलओसी पर शनिवार को राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में पाकिस्तान की बार्डर एक्शन टीम (बैट) की ओर से बिछाई गई आईईडी को डिफ्यूज करते समय हुए विस्फोट से 21जीआर में तैनात सेना के मेजर चित्रेश बिष्ट शहीद हो गए। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मेजर बिष्ट की शहादत पर दुःख व्यक्त किया है। 

मेजर चित्रेश बिष्ट का परिवार देहरादून की नेहरू कॉलोनी में रहता है । शहीद चित्रेश के पिता उत्तराखंड पुलिस में इंस्पेक्टर के पद से दो साल पहले ही सेवा निवृत  हुए हैं और शहर कोतवाल भी रहे हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार अगले माह मार्च में व उनकी शादी होने वाली थी।  सेना से मिली जानकारी के अनुसार विस्फोट में एक अन्य जवान भी घायल हो गया था जिसे एयरलिफ्ट कर इलाज के लिए उधमपुर कमान अस्पताल भेजा गया है। सैन्य प्रवक्ता ने भी आईईडी ब्लास्ट में एक मेजर के शहीद तथा एक जवान के घायल होने की पुष्टि की है।

पाकिस्तान की ओर सेक्टर के लाम झंगड़ इलाके के सरैया क्षेत्र लगाई गई आईडी का पता चलने के बाद सेना की ओर से इसे डिफ्यूज किया जा रहा था। बताते हैं कि तीन आईईडी को सफलतापूर्वक डिफ्यूज कर लिया गया था, लेकिन चौथे आईईडी को डिफ्यूज करते समय इसमें ब्लास्ट हो गया। 
इसमें इंजीनियरिंग विभाग के एक मेजर चित्रेश बिष्ट शहीद हो गए। वह 21जीआर में तैनात थे। ब्लास्ट की सूचना मिलते ही सेना के अन्य अधिकारी व जवानों ने मौके पर पहुंचकर घायल जवान को अस्पताल पहुंचाया।




0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top