भारतीय वायुसेना (आईएएफ) और हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) मिराज 2000 लड़ाकू विमान के उन्नत संस्करण के दुर्घटनाग्रस्त होने की संयुक्त जांच करेंगे. एक अधिकारी ने मीडिया को बताया, “एचएएल और आईएएफ ने दुर्घटनाग्रस्त विमान से ब्लैक बॉक्स बरामद कर लिया है और वे संयुक्त रूप से इस दुर्घटना की जांच करेंगे.”

सैन्य हवाईअड्डे पर शुक्रवार को हुई इस विमान दुर्घटना में स्क्वाड्रन लीडर समीर अब्रोल और सिद्धार्थ नेगी शहीद हो गए थे.

समीर अब्रोल उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के और नेगी उत्तराखंड के देहरादून के रहने वाले थे. इन्हें एक दशक पहले वायुसेना में बहाल हुए थे और दोनों एयरक्राफ्ट एंड सिस्टम्स टेस्टिंग्स इस्टेबलिशमेंट्स (एएसटीई) में टेस्ट पायलट थे.

आईएएफ के प्रवक्ता ने मीडिया से कहा कि नेगी का अंतिम संस्कार बेंगलुरू और अब्रोल का गाजियाबाद में किया जाएगा. दुर्घटनाग्रस्त लड़ाकू जेट मूल रूप से फ्रांसीसी एयरोस्पेस प्रमुख डसॉल्ट एविएशन द्वारा बनाया गया था.

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, विमान रनवे से उड़ान भरने के तुरंत बाद दुर्घटनाग्रस्त हो गया.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top