देहरादून : नकली पुलिस बनकर लोगों से चैकिंग के नाम पर ज्वैलरी ठगी करने वाले अंतराज्य ईरानी गैंग की एक महिला सदस्या, भारी मात्रा में ठगी की लाखों रुपये की ज्वैलरी के साथ लखनऊ से गिरफ्तार करने में कोतवाली पुलिस ने सफलता पाई…बाकी इस गिरोह के सदस्य फरार हैं.

दरअसल 24 जनवरी 2019 को सुनीता शर्मा पत्नी धीरेन्द्र शर्मा, निवासी 151 लुनिया मोहल्ला, देहरादून ने चौकी धारा पर लिखिल सूचना दी कि उनके पति धीरेन्द्र शर्मा किसी काम से चकराता रोड से जा रहे थे तभी दो व्यक्तियो ने उन्हें चक्खुमोहल्ला वाली गली में बुलाया. साधे कपड़ों में आए दो व्यक्तियों ने उनसे कहा कि वह पुलिस वाले हैं और यहां 26 जनवरी के कारण चैंकिग चल रही है और उनकी तलाशी लेने लगे. साथ ही महिला ने बताया कि उन्होंने कहा कि आपके पास जो भी सोने की चीज हैं उसको इस रुमाल में रख लो। इनके पति ने दो अंगूठी और एक चाबी रुमाल में रख ली और इसी बीच उन्होनें बातों बातों में रुमाल में से दोनों अगूंठियां गायब कर दी. उसमें केवल चाबियां ही रह गयी थी। इस सूचना पर चौकी धारा पर उचित धाराओं में अभियोग पंजीकृत किया गया। प्रारम्भिक पूछताछ पर पीडित धीरेन्द्र शर्मा ने बताया कि उन दोनों व्यक्तियों के साथ एक महिला भी थी, जो उनसे  कुछ दूर खड़ी थी।

पहले भी आ चुके है देहरादून में ऐसे मामले सामने, सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए

इसकी सूचना एसएसपी को दी गई…सामने आया कि इससे पहले भी इसी प्रकार की घटनाएं देहरादून में हो चुकी है. जिसे गंभीरता से लेते हुए एसएसपी ने जरुरी निर्देश दिए. जिसके अनुपालन में पुलिस अधीक्षक नगर, व CO सिटी के निकट पर्यवेक्षण में प्रभारी निरीक्षक के निर्देशन में वरिष्ठ पुलिस उ.नि. कोतवाली नगर के नेतृत्व में एक टीम का गठन  किया. टीम ने घटना से सम्बन्धित समस्त लोगों से बारीकी से पूछताछ की और घटना स्थल के आस पास व सन्दिग्ध व्यक्तियों के आने जाने वाले रास्तों पर लगे सीसीटीवी कैमरे चैक किये. करीब 50 कैमरे चैक करने के बाद सन्दिग्धों की कुछ फोटोग्राफ मिसी, जो प्रथम दृष्टया देखने में तथा क्राइम की मोडस ऑपरेंडी में ईरानी गैंग के सदस्य होना प्रतीत हुआ। इसी इनपुट के माध्यम से सम्पूर्ण भारत में रह रहे ईरानी गैंग के सदस्यों की पहचान हेतु इनके फोटोग्राफ पुलिस सूत्रो को व्हाट्सएप्प के माध्यम से प्रेषित किये गये तथा अन्य राज्यो की पुलिस से भी उक्त इनपुट को साझा किया गया।

अलग-अलग राज्यों में जाकर देते थे घटना को अंजाम

तमाम अऩ्य पुलिस टैक्टिक्स के बाद सूचना मिली कि जिन ईरानी गैंग के लोंगो ने देहरादून में घटनाएं की है, वह मूल रुप से बीदर कर्नाटक के रहने वाले हैं, फोटो ग्राफ से यह अली मिर्जा व सिट्टी प्रतीत हो रहे है, और वर्तमान में लखनऊ में किराए पर रहकर उत्तर प्रदेश, राजस्थान,मध्यप्रदेश, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब व उत्तराखण्ड आदि राज्यो में घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। यह गैंग अपने साथ एक या दो महिलाओं को भी रखते हैं। सूचना पर कोतवाली थाने से एक पुलिस टीम को लखनऊ रवाना किया गया.

महिला को लखनऊ से किया गिरफ्तार

टीम ने कुशलता का परिचय देते हुए लगातार लोकल इंफोरमर्स से इनके संबध में जानकारी करते हुए करीब 8 दिन तक पतारसी सुरागसी करते हुए 5 जनवरी को सूचना मिली की दोनों अभियुक्त एक महिला के साथ ज्वैलरी बेचने के लिए आ रहें है, महिला को इसलिये अपने साथ लाते है कि कोई ज्वैलरी को देखकर शक न करे. इस सूचना पर सभी पुलिस टेक्टिस का पालन करते हुये आने वाले रास्ते पर घेरांबदी की गई, जिसमें उक्त महिला को ठगी की गई भारी मात्रा में ज्वैलरी के साथ गिरफ्तार करने मे सफलता प्राप्त की गई और मौके से अन्य दो अभियुक्त घनी आबादी व संकरी गलियों का फायदा उठाकर फरार होने में सफल रहे है, जिनकी टीम द्वारा लगातार तलाश जारी है। उनको भी शीघ्र गिरफ्तार किया जायेगा. गिरफ्तार अभियुक्ता को आज मान0 न्यायालय पेश किया जा रहा है.

नाम पता गिरफ्तार अभियुक्ता

फिजा जाफरी पत्नी मोहम्मद अली सरफराज जाफरी नि0 भीमण्डी थाना शांतिनगर जिला ठाणे महाराष्ट्र,  उम्र 40 वर्ष.

नाम पता वांछित अभियुक्तगण

1-मोहम्मद अली सरफराज जाफरी उर्फ सिट्टी पुत्र एजाज अहमद जाफरी निवासी भीमण्डी थाना शांन्तिनगर, जिला ठाणे, महाराष्ट्र, उम्र  40 वर्ष।

2-अली मिर्जापुत्र स्वं0 दरवेश ईरानी नि0 उपरोक्त उम्र 40 वर्ष।

बरामदगी का विवरण  

  1. एक अंगूठी जेट्स सोने की, एक अंगूठी सोने की मोती मूंगा जडी, सम्बन्धित मु0अ0स0 38/19 धारा 419,420,170,120B,34 IPC.

2. एक गले की चेन, 2 चुडियां, 2 अंगूठी सोने की सभी लेडिज सम्बन्धित मु0अ0स0 233/18 धारा 420,170,120B  IPC.

3- एक गले की चेन, 2 अंगूठियां, 2 चूडी सभी लेडिज सोने की, सम्बन्धित मु0अ0स0 143/18 धारा 420/170/120B IPC सभी चालानी थाना कोतवाली नगर देहरादून.

 बरामद माल की कुल कीमत करीब 5,00,000 रूपयें  

4- 2 मोबाईल फोन , 4 सीम कार्ड , 2  पैन कार्ड, 1 आधार कार्ड , एक काला बैग.

पूछताछ पर अभियुक्ता ने बताया कि यह भीमण्डी महाराष्ट् की निवासी है, सिट्टी इसका पति है और अली मिर्जा की यह बहन है । हाथ की सफाई इनका पुश्तैनी काम है, इस काम को यह कई पुस्तों से करते आ रहे हैं। इसके द्वारा बताया कि अली मिर्जा उसका सगा भाई है , सिट्टी और अली मिर्जा दोनो अलग अलग राज्यों शहरों में जाकर लोगो को फर्जी पुलिस बनकर कभी चैंकिग के नाम पर तो कभी बूढे व्यक्तियों के जोडों में दर्द बताकर उनके पहने जेवर को शुद्ध करने के नाम पर तो कभी CRIME ब्रांच की टीम बनकर चैकिंग करने के नाम लोगो से उनके पहने जेवर उतरवाकर किसी लिफाफे में रख लेते हैं और हाथ की सफाई से नजर बचाकर नकली जेवर का पैकट बदल देते है, इस प्रकार इनके द्वारा अब तक उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, राजस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात,दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश, व उत्तराखण्ड आदि अन्य राज्यो में भी छोटी बडी अनेकों घटनाएं की है. इसी वर्ष जनवरी 24 को ये भी इनके साथ आई थी, जब घटना करने के बाद जो भी ज्वैलरी मिलती थी तो यह ज्वैलरी इसको दे देते और यह किसी ज्वैलरी शॉप पर जाकर उसको बेच देती थी, महिलाओं पर कोई शक भी नही करता था.

 इस प्रकार इसके द्वारा यह भी बताया कि सिट्टी और अली मिर्जा दोनों अपनी बाइक से उत्तराखण्ड पहले भी कई बार आ चूकें है, पिछले साल यह दोनों मार्च और मई और अक्टूबर के महीने में आये थे. मार्च और मई में दो बुजुर्ग महिलाओं को इन्होनें अपना शिकार बनाया था, उसमें जो ज्वैलरी  मिली थी उसमें से कुछ बेच दिया था और जो कुछ बची थी वह आज बेचने जा रही थी, इसके अलावा 24 तारीख की घटना में एक बुजुर्ग को शिकार बनाया था, उनकी भी दोनों अंगूठिया बेचने  जा रही थी तथा साथ में सिट्टी और अली मिर्जा भी थे, जो वहां से भाग गए।

इसके द्वारा यह भी बताया गया कि इसका बडा बेटा भी चैन स्नेचिंग और  ठगी  का काम करता है।  अभी 8/10 दिन पहले ही मुम्बई पुलिस ने उसको पकड़ा है, अक्टूबर, नवंबर 2018 में जब अली मिर्जा और सिट्टी उत्तराखण्ड घटना  करने आये थे तो कुछ ज्वैलरी को लेने इसका बेटा लखनऊ से  फ्लाईट से जॉलीग्रांट आया था तथा उसी दिन ये जॉलीग्रान्ट एयरपोर्ट से फ्लाईट से ही  हैदराबाद गया, वहां से बीदर कर्नाटक आ गया था। यह लखनऊ में किराए के कमरे में रहते है, आना जाना फ्लाईट  से करते है, कभी- कभी यह दो मोटर साईकिलों पर 4 लोग भी आ जाते है और कभी- कभी दो मोटरसाईकिल व एक बड़ी गाड़ी से 6 व 7 लोग भी जाते है। सिट्टी और अली मिर्जा द्वारा ठगी से प्राप्त ज्वैलरी को अभियुक्ता के पास ही रखते थे तथा अधिकांश ज्वैलरी को यह खुद बेचती थी।

उल्लेखनीय है कि उक्त महिला भी अत्यंत शातिर प्रवित की है, बार – बार पूछताछ पर भी इसके द्वारा लखनऊ में किराये के घर का पता नही बताया गया है।  एक टीम द्वारा अन्य फील्ड टेक्टिस व पुलिस सूत्रों के माध्यम से अन्य अभियुक्तों व उनके संभावित ठीकानों की जानकारी की जा रही है तथा अन्य राज्यो में घटित को सूचित किया जा रहा है। उक्त महिला अभियुक्त द्वारा अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां दी गयी है, जिसका परीक्षण/ विश्लेषण कर विवेचना में सम्मिलित कर आवश्य वैधानिक कार्यवाही की जायेगी।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top