देहरादून : बात जब भी सेना की, देश की रक्षा की और कुर्बानी की आती है जाए तो ऐसे में सबसे पहले गढ़वाल राइफल औऱ उत्तराखंड के जवानों का नाम सामने आता है. जिन जांबाजों ने देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहूती दी है जिनके बलिदान को राज्य औऱ देश की जनता कभी नहीं भूल सकती.

वहीं एक बाऱ फिर सेना में रहकर देश की सेवा करते हुए उत्तराखंड का एक और लाल शहीद हो गया. जी हां मिली जानकारी के अनुसार चमोली के सेंती गांव निवासी 22 वर्षीय रोहित राजस्थान में तैनात थे जिनकी अचानक तबियत बिगड़ने के बाद मौत हो गई. सूचना मिलने के बाद परिवार में कोहराम मचा हुआ है औ गांव में मातम पसरा हुआ है।

घर के इकलौते चिराग थे रोहित, बीकानेर में थे पोस्टेड

जानकारी में पता चला की जवान कुछ ही दिन पहले छुट्टी बिताकर ड्यूटी पर ज्वाइन हुआ था जो की अपने घर का इकलौता बेटा था। रोहित की मां लीला देवी और बहन किरन का रो-रोकर बुरा हाल है। जानकारी के अनुसार, दो साल पहले ही रोहित लैंसडाउन में गढ़वाल राइफल्स में भर्ती हुए थे। इन दिनों उसकी तैनाती बीकानेर राजस्थान में थी। प्रमोशन के लिए उनकी परीक्षाएं चल रही थी।

एक माह की छुट्टी बिताकर 17 जनवरी को ही बीकानेर के लिए रवाना हुए थे

मिली जानकारी के अनुसार 2 फरवरी को दोपहर में रोहित परीक्षा के लिए अपनी सीट देखने गए थे। उस दौरान वे वहां पर अचानक बेहोश होकर जमीन पर गिर पड़े। सूचना मिलते ही अन्य जवानों ने रोहित को सेना अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उपचार के दौरान जवान ने दम तोड़ दिया। रोहित एक माह की छुट्टी बिताकर 17 जनवरी को ही बीकानेर के लिए रवाना हुए थे। अपने परिवार का रोहित ही एकमात्र सहारा था। उसकी एक बहन भी है जिसकी तीन माह पूर्व ही शादी हुई थी।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top