प्रसिद्ध गीतकार-पटकथा लेखक जावेद अख्तर ने कहा कि भारत में आतंकवाद प्रायोजित करने का पाकिस्तान का एजेंडा उनकी समझ से परे है. अख्तर ने यहां एक समारोह से इतर कहा, मैं नहीं समझ पाता हूं कि उनका (पाकिस्तान का) एजेंडा क्या है और वे लगातार आतंकवाद को प्रयोजित करके क्या हासिल करेंगे. यह सभी को पता है कि वे आतंकवादी संगठनों का समर्थन करते हैं, लेकिन लगातार इससे इनकार करते हैं.

उन्होंने कहा, (आतंकवादी समूह जैश-ए-महमूद का संस्थापक और नेता) मसूद अजहर को भारतीय जेल से तब छोड़ा गया, जब उन्होंने (जैश) एक भारतीय विमान का अपहरण कर लिया था और उसके बाद वह कैसे कांधार से पाकिस्तान पहुंचा..अगर वे (पाकिस्तान) ईमानदार शासन चलाते हैं तो फिर उसे गिरफ्तार क्यों नहीं करते. अख्तर ने यह बयान भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़े हुए तनाव के बीच दिया है.

अख्तर और उनकी पत्नी शबाना आजमी ने पाकिस्तान में करांची कला परिषद की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लेने से इनकार कर दिया था, जो कि जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा में हुए आत्मघाती हमले में सीआरपीएफ के 40 जवानों के शहीद होने के कुछ दिनों बाद आयोजित किया गया था.

उन्होंने कहा, मैं महसूस करता हूं कि यह स्थिति हम (भारत) पर थोपी जा रही है. यह हमारी पसंद नहीं थी, लेकिन जब चीजें आपके नियंत्रण से बाहर चली जाती हैं तो हमें कब तक और कितनी बार शांति बनाए रखनी चाहिए? इसलिए हमें कभी न कभी इसका जवाब देना था.

उन्होंने कहा, उन्होंने कहा कि मौजूदा घटनाक्रमों के नतीजे बहुत खतरनाक हैं और पाकिस्तानी अभिनेता और कलाकारों पर प्रतिबंध लगाना छोटी चीजें है, लेकिन हमारी सीमा पर जो हो रहा है, उसे रोका जाना चाहिए. हमें आतंकवाद पर प्रतिबंध लगाना चाहिए. यह दुर्भाग्यपूर्ण है.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top