• राज्य के नियोजित विकास को विजन 2030 तैयार
  • सरकार संकल्पों और लक्ष्यों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध
  • प्राथमिकता विकेंद्रित विकास तथा सबका साथ, सबका विकास
  • प्रदेश में 38 हजार लोगों को रोजगार देने की उम्मीद

देवभूमि मीडिया ब्यूरो 

देहरादून : लोकसभा चुनाव से पहले बीते वर्ष सरकार की उपलब्धियों का जिक्र के साथ ही पलायन सहित मौजूदा प्राथमिकताओं के साथ भविष्य में विकास के संकल्प के रोडमैप के साथ किसानों की आय दोगुना करने का संकल्प, सही दिशा में उठाए जा रहे कदम, तो आम आदमी से लेकर कारोबारियों, कर्मचारियों, महिलाओं और विभिन्न वर्गो को प्रौद्योगिकी मदद से सुशासन का भरोसा कुल मिलाकर राज्यपाल बेबीरानी मौर्य के अभिभाषण का यही मूल पाठ रहा। राज्यपाल बेबीरानी मौर्य ने कहा कि सरकार अगले वर्ष विकास की नई ऊंचाइयों को प्राप्त करेगी, ताकि प्रत्येक क्षेत्र में नए आयाम स्थापित किए जा सकें।

बजट सत्र के पहले दिन विधानसभा में सोमवार को विपक्ष कांग्रेस के विधायकों के हंगामे और वॉकआउट के बीच राज्यपाल बेबीरानी मौर्य ने अपना पहला अभिभाषण पेश किया। शाम को विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने राज्यपाल अभिभाषण का सदन में वाचन किया। इसके साथ ही बजट सत्र सोमवार से प्रारंभ हो गया। इससे पहले 43 पृष्ठ के अपने अभिभाषण की शुरुआत राज्यपाल ने सरकार की मौजूदा प्राथमिकताओं को गिनाते हुए की। उन्होंने कहा कि सरकार की प्राथमिकता विकेंद्रित विकास तथा सबका साथ, सबका विकास की अवधारणा को लेकर राज्य को विकसित राज्य की श्रेणी में ले जाना है। सरकार संकल्पों और लक्ष्यों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है। आम जनता की सुविधा के लिए ऑनलाइन व्यवस्था के साथ ही प्रौद्योगिकी की मदद से कर्मचारियों, पेंशनरों, व्यापारियों समेत समाज के तमाम तबकों को पहुंचाई जा रही सेवाओं का विस्तार से उन्होंने जिक्र किया।

राज्यपाल ने बताया कि राज्य के नियोजित विकास को विजन 2030 तैयार किया गया है। सरकारी विभागों से प्राप्त की जाने वाली सूचनाओं को पेपरलैस तो किया गया, साथ में नियमित अनुश्रवण व समीक्षा के लिए ई-आकलन पोर्टल तैयार किया गया है। विकास के लिए नीति नियोजन को प्रभावी, उपयोगी और व्यावहारिक बनाने को उत्तराखंड स्टेट सेंटर फॉर पब्लिक पॉलिसी एंड गुड गवर्नेस का गठन किया गया है। राज्य की उच्च विकास दर बनाए रखने को उद्योगों को बढ़ावा देने, इन्वेस्टर्स समिट के जरिये अब तक 9687 करोड़ के पूंजी विनियोजन प्रस्तावों के माध्यम से प्रदेश में 38 हजार लोगों को रोजगार देने की उम्मीद जताई गई है। इसी तरह पर्वतीय क्षेत्रों में पलायन रोकने को पर्यटन महकमे की होम स्टे योजना को बड़ी पहल के रूप में प्रस्तुत किया गया है। राज्यपाल ने बताया कि चारधाम परियोजना के लिए ऑलवेदर रोड के तहत 346 किमी लंबे 31 निर्माण कार्य प्रगति पर हैं।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top