देहरादून : पुलवामा आतंकी हमले में देश के 42 जवान शहीद हो गए…जिसमें उत्तराखंड के भी दो जवान ने भी देश की रक्षा करते हुए अपने प्राणों की आहूति दी. वहीं आज सीआरपीएफ में एएसआई मोहनलाल रतूड़ी का पार्थिव शव देहरादून उनके आवास लाया गया। इस दौरान कोहराम मच गया औऱ घर में अंतिम दर्शन को जनसैलाब उमड़ पड़ा। बेटी नम आंखों से पिता को देखती रही और पिता के पार्थिव शरीर को देख सैल्यूट किया.

सीएम समेत नेताओं ने दिया कंधा

वहीं सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत सहित गणेश जोशी, विनोद चमोली, कांग्रेसी नेता सूर्यकांत धस्माना और कई पुलिस -सीआरपीएफ अधिकारी शहीद के आवास पहुंचे. शहीद का पार्थिव शरीर आवास के पास एक पार्क में अंतिम दर्शन के लिए रखा गया।सीएम समेत विधायक औऱ नेताओं ने शहीद को श्रद्धांजलि अर्पित कर कंधा दिया। और पार्थिव शरीर को अंतिम संस्कार के लिए हरिद्वार ले जाया गया.

लगे जब तक सूरज चांद रहेगा, मोहन तेरा नाम रहेगा के नारे

वहीं इस दौरान परिजनों के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे थे…वहां मौजूद लोगों ने गुस्से भरे स्वर से पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए. साथ ही जब तक सूरज चांद रहेगा, मोहन तेरा नाम रहेगा नारे के साथ आवाज बुलंद की इस दौरान उनकी बहादुर बेटी ने अपने पिता को सैल्यूट किया और एकटक देखती रही।

बता दें मोहनलाल मूल रूप से उत्तरकाशी चिन्यालीसौड़ के बनकोट गांव के रहने वाले हैं, गांव से उनके रिश्तेदार भी उनके अंतिम दर्शनों के देहरादून पहुंचे हैं। शहीद मोहन लाल रतूड़ी रामपुर ग्रुप सेंटर की 110 बटालियन में जम्मू-श्रीनगर हाई-वे पर रोड गश्त ड्यूटी में तैनात थे।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top