प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वीडियो कांफ्रेंसिंग महासंवाद पर गुरुवार को बहुजन समाज पार्टी (बसपा) और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने निशाना साधा है.

बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने ट्वीट करके कहा कि ऐसे समय में जब जंगी संकट के बादल छाए हैं. देश को नेतृत्व की सख्त जरूरत है. प्रधानमंत्री मोदी द्वारा देश की सुरक्षा पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय अपनी पार्टी की चिंता करते हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) कार्यकर्ताओं को संबोधित करना हास्यास्पद ही नहीं, बल्कि देश की भावनाओं के साथ खिलवाड़ भी है.

उन्होंने कहा कि ‘पाकिस्तान का हवाई हमला सेना ने कल नाकाम कर दिया, यह बड़ी राहत की बात है. लेकिन देश का एक जांबाज वायुसेना का अफसर पाकिस्तान के कब्जे में है. यह बड़ी चिंता की बात है. उस पायलट की सकुशल वापसी के लिए भारत सरकार को पूरा जी-जान लगा देने की जरूरत है तभी देश को चैन मिलेगा.

समाजवादी पार्टी के (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्विटर पर निशाना साधते हुए कहा, “आज जब पूरा देश राजनीति से ऊपर उठकर एक भारतीय के रूप में सरकार के साथ खड़ा है. ऐसे में भाजपा बूथ कार्यकर्तार्ओं से संपर्क का रिकॉर्ड बनाने में लगी है. आज तो भाजपा समर्थक भी इस आयोजन पर शर्मिदा हैं. हालात कितने भी खराब हों पर इस ‘शूट-बूथ’ वाली भाजपा के उत्सव जारी रहेंगे. यह निंदनीय है.”

भारत और पाकिस्तान के बीच वर्तमान हालत पर 21 विपक्षी दलों ने बुधवार को एक बैठक कर आरोप लगाया कि पुलवामा हमले के बाद भाजपा के नेताओं ने जवानों की शहादत का राजनीतिकरण किया जो गंभीर चिंता का विषय है.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top