जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले से पूरा देश गुस्से में हैं। 14 फरवरी को हुए इस हमले में 40 सीआरपीएफ शहीद हो गए। इस हमले के बाद से पूरे देश में पाकिस्तान का पूरी तरह से बॉयकॉट करने की मांग चल रही है। इस कड़ी में वर्ल्ड कप 2019 में भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाले मैच का बहिष्कार करने की भी मांग जोरों पर हैं.

ऐसे में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद और विश्व कप-2019 आयोजन समिति को अब भी विश्वास है कि मैनचेस्टर में 16 जून को होने वाले भारत-पाकिस्तान मैच अपने तय कार्यक्रम के अनुसार ही होंगे।

भारत पाकिस्तान के साथ नहीं खेलता है तो प्वाइंट्स उनके खाते में चले जाएंगे-BCCI

आईसीसी के इस बयान के बाद BCCI ने भी अपनी बात रखी है। ANI के मुताबिक, बीसीसीआई के सूत्र के हवाले से कहा गया है कि अगर वर्ल्ड कप में भारत पाकिस्तान के साथ नहीं खेलता है तो प्वाइंट्स उनके खाते में चले जाएंगे। और अगर फाइनल मैच में भारत और पाकिस्तान की भिड़ंत होती है तो क्या पाक बिना खेले ही खिताब जीत जाएगा। इस मामले में अभी आईसीसी से बीसीसीआई की कोई बात नहीं हुई है।

कुछ वक्त बाद भारत और पाकिस्तान के मैच को लेकर सिचुएशन साफ होगी-बीसीसीआई

बीसीसीआई सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि कुछ वक्त बाद भारत और पाकिस्तान के मैच को लेकर सिचुएशन साफ होगी। वर्ल्ड कप काफी नजदीक है। ऐसे में आईसीसी का इस मुद्दे से कोई लेना-देना नहीं है। लेकिन अगर सरकार चाहती है कि भारत पाकिस्तान के साथ नहीं खेले तो यह साफ है कि हम नहीं खेलेंगे।

किकइंफो की रिपोर्ट के अनुसार, आईसीसी का यह बयान उन अटकलों के बीच आया है, जिसमें कहा जा रहा है कि पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद विश्व कप-2019 में भारत को पाकिस्तान के खिलाफ होने वाले मैच का बहिष्कार करना चाहिए। विश्वकप शुरू होने में अब केवल 100 दिन ही बचे हैं।

आईसीसी के मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष डेविड रिचर्डसन ने कहा कि इस भयावह घटना से प्रभावित लोगों के साथ हमारी सहानुभूति है और हम बीसीसीआई और पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) सहित अपने सदस्यों के साथ हालात पर नजर रखेंगे. उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से ऐसे कोई संकेत नहीं है कि भारत-पाकिस्तान सहित विश्व कप का कोई मैच निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार नहीं होगा। लेकिन जैसा कि मैंने कहा, हम स्थिति पर नजर रखेंगे।”

आईसीसी के सीईओ ने साथ ही यह भी कहा कि खेल और खासकर क्रिकेट में लोगों को करीब लाने और समुदायों को जोड़ने की क्षमता है। हमें उम्मीद है कि क्रिकेट का इस्तेमाल इस तरह से किया जाएगा है कि इससे लोगों को विभाजन न किया जाए।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top