रूड़की के झबरेड़ा थाना क्षेत्र के ग्राम बालूपुर में कच्ची शराब पीने से तेरह लोगों की मौत हो गयी है और इसके अलावा तकरीबन 35 लोगों की हालत गम्भीर बनी हुई है। जिन्हें उपचार के लिए अलग अलग निजी अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है।

आपको बता दें कि झबरेड़ा थाना क्षेत्र के बालूपुर गांव में एक तेहरवीं थी जिसमें अलग अलग गांवों से रिश्तेदार इकट्ठे हुए थे। तेरहवीं के बाद ग्रामीणों ने गांव से ही कच्ची शराब का सेवन किया जिसके बाद शाम को सभी रिश्तेदार अपने घर वापस चले गए थे। उसके बाद गुरुवार शाम से ज्यादातर लोगो की हालत बिगड़ने लगी। इससे पहले की परिजन कुछ समझ पाते तब तक हालत गम्भीर हो गयी। कुछ ने अस्पताल जाते जाते और कुछ ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। पूरे मामले को लेकर प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट नज़र आ रहा है।

13 लोगों की मौत

वहीं रुड़की पहुंचे कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश सरकार पूरी तरह से लापरवाह सरकार है क्योंकि जिन लोगो की मौत हुई है उन्हें भी सरकार ने कोई सुविधा उपलब्ध नही कराई है। लोग लाशों को अपने निजी वाहनों से लेकर आ रहे है इससे बड़ी दुर्भाग्यपूर्ण बात और क्या हो सकती है। जहरीली शराब का सेवन करने से अब तक 13 लोगो की मौत हो चुकी है जिसके बाद रुड़की से लेकर देहरादून तक सरकार और प्रशासनिक महकमे में हड़कंप मच गया हैं.

आबकारी इंस्पेक्टर सहित थाना अध्यक्ष चौकी इंचार्ज और बीट कॉन्स्टेबल निलंबित

वहीं देहरादून के आबकारी मुख्यालय ने रुड़की आबकारी विभाग के 13 कर्मचारियों को सस्पेंड किया है जिसमें आबकारी इंस्पेक्टर नरेन्द्र सिंह नेगी भी शामिल है. वहीं झबरेड़ा थाने के थाना अध्यक्ष प्रदीप मिश्रा सहित चौकी इंचार्ज और बीट कॉन्स्टेबल भी इस जद में आये है. उन्हें भी एस एस पी जन्मजेय खंडूरी ने निलंबित कर दिया है। साथ ही जिला अधिकारी दीपक रावत का कहना है कि मामले की गंभीरता से जांच करा कर दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी ।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top