दुबई|…. अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने समलैंगिकता से जुड़ी कथित टिप्पणी करने के बाद वेस्टइंडीज के तेज गेंदबाज शेनन गेब्रियल पर चार मैचों का प्रतिबंध लगा दिया है. आईसीसी वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, गेब्रियल पर वेस्टइंडीज और इंग्लैंड के बीच सेंट लूसिया में खेले गए तीसरे टेस्ट मैच के इंग्लैंड के कप्तान जोए रूट से बहस के दौरान समलैंगिकता से संबंधित टिप्पणी करने का आरोप तय हुआ था.

इसके बाद उन पर मैच फीस का 75 प्रतिशत जुर्माना लगाने के साथ-साथ उनके खाते में तीन डीमेरिट अंक भी जोड़ दिया गया था. 24 महीने के अंदर गेब्रियल के खाते में आठ डीमेरिट अंक हो गए थे, जिस कारण उन पर चार मैचों का प्रतिबंध लगाया गया.

इस प्रतिबंध के बाद गेब्रियल अब इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले पांच मैचों की वनडे सीरीज के पहले चार मैचों में नहीं खेल पाएंगे. गेब्रियल को इससे पहले नवंबर 2018 में मीरपुर टेस्ट से निलंबित किया गया था.

इससे पहले, दो अलग-अलग मामलों में गेब्रियल के खाते में पांच डीमेरिट अंक थे जो कि अप्रैल 2017 में पाकिस्तान के खिलाफ जमैका टेस्ट में और पिछले साल नवंबर में बांग्लादेश के खिलाफ चटगांव टेस्ट में उन्हें मिला था.

उनके खाते में तीन और डीमेरिट अंक जुड़ते ही वह अंक हो गए जोकि आईसीसी की आचार संहिता के 7.6 के उल्लंघन से संबंधित है. इसके तहत चार मैचों से निलंबित करने का प्रावधान है.

हालांकि गेब्रियल ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है, इसलिए अब उनके खिलाफ औपचारिक कार्रवाई की जरुरत नहीं पड़ेगी.

गौरतलब है कि मैच के तीसरे दिन गेब्रिएल और इंग्लैंड के दो बल्लेबाजों रूट तथा जोए डेनली के बीच कहासुनी हुई थी. इसमें रूट का बयान स्टम्प माइक में कैद हो गया था. रूट ने कहा था, ‘इसे लेकर बेइज्जती नहीं कीजिए. समलैंगिक होने में किसी तरह की बुराई नहीं है.’





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top