• 9 मई  को ब्रह्म मुहूर्त  में खुलेंगे बाबा केदार के कपाट

देवभूमि मीडिया ब्यूरो

देहरादून : जगद्गुरु व केदारधाम के मुख्य रावल श्री भीमा शंकर लिंग के अनुसार भगवान केदारनाथ धाम के कपाट खुलने के इतिहास में करीब 19 सालों में यह दूसरा मौका है, जब बाबा केदार के कपाट ब्रह्म मुहूर्त में आम श्रद्धालुओं के लिए खुल रहे हों। वर्ष 2000 से कार्यरत वर्तमान रावल भीमा शंकर लिंग के कार्यकाल में उन्हें यह दूसरा अवसर मिल रहा है, जब वे प्रशासन की मौजूदगी में सुबह 5:35 पर बाबा केदार के कपाट खालेंगे।

इस बार केदारनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि भले ही 9 मई घोषित हुई हो, किंतु समय ब्रह्म मुहूर्त निकला है। मेष लग्न में सुबह 5:35 मिनट पर पाट खुलने को अमृतकाल भी कहा जा रहा है। केदारनाथ में ऐसा कम ही बार देखा गया है जब कपाट खुलने का समय इतने तड़के हो। बदरी-केदार मंदिर समिति के मुताबिक वर्ष 2000 के बाद महज एक बार ही ऐसा मौका आया था जब केदारनाथ धाम के कपाट खुबह 4:35 पर खोले गए। जबकि इसके बाद यह दूसरा मौका है। 

श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के अनुसार केदारनाथ के कपाट खुलने का यदि पूर्व का रिकार्ड देखा जाए तो वर्ष 2006-2007 में ही ऐसा मौका आया था, जब बाबा केदार के कपाट तड़के खोले गए। करीब 19 सालों में यह दूसरी बार देखा जा रहा है जब भगवान केदारनाथ के कपाट सुबह 5:35 पर खोले जाएंगे। अक्सर केदारनाथ के कपाट खुलने का समय सुबह 6, साढ़े 6, साढ़े 7, 8 और साढ़े 8 बजे का ही रहा है।

इधर मान्यतानुसार अंखड ज्योति के दर्शन का पुण्य लेने के लिए हर साल बड़ी संख्या में तीर्थयात्री और स्थानीय लोग केदारनाथ धाम पहुंचते हैं, वहीं 19 सालों के भीतर दोबारा आए इस अमृतकाल (अति शुभ मुहूर्त) में दर्शन के लिए बड़ी संख्या में भक्तों के केदारनाथ पहुंचने की उम्मीद है। बीकेटीसी के मुख्य कार्याधिकारी बीडी सिंह ने बताया कि काफी समय बाद ऐसा मुहूर्त आया है। इसे काफी शुभ बताया जा रहा है।  





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top