• सबूतों में बताया गया है कि वायुसेना का टारगेट था कौन 

देवभूमि मीडिया ब्यूरो

नयी दिल्ली : एयर स्ट्राइक के सबूतों को लेकर देश में सियासी हलचल मची हुई है। जहां कांग्रेस की ओर से दिग्विजय सिंह, मनीष तिवारी के अलावा एनडीए में बीजेपी की साथी शिवसेना ने भी एयरस्ट्राइक की सच्चाई को जनता के सामने रखनी की बात कह रहे हैं वहीं सरकार और भाजपा  विपक्ष की इस मांग को सेना का मनोबल गिराने वाला बयान बता रहे हैं , जबकि सोशल मीडिया पर भी विपक्ष की ख़ास किरकिरी हो रही है।

राजनीतिक दलों की इस  बयानबाजी के बीच भारतीय वायुसेना द्वारा भारत सरकार को एयर स्ट्राइक के सबूत सौंपने की खबर सामने आ रही है। एक जानकारी के मुताबिक भारतीय वायुसेना ने सरकार को बालाकोट के उस क्षेत्र की 12 पेज की रिपोर्ट  और हाई रेजोल्यूशन की तस्वीरें सौंपी है। जहां भारतीय वायु सेना ने एयर स्ट्राइक किया था। रिपोर्ट के मुताबिक बालाकोट में मिराज विमान द्वारा गिराए 80 प्रतिशत बम सही टारगेट पर गिरे थे।

वायुसेना की इस  रिपोर्ट के अनुसार बालाकोट में उनके 80 फीसदी निशाने सही लगे हैं। जिन बमों को दागा गया वह वहां मौजूद बिल्डिंगों के सीधे अंदर गए हैं, यही कारण है कि जो भी तबाही हुई है वह अंदर ही हुई है। जिन मिसाइलों का इस्तेमाल हुआ है उन्होंने सीधे छत को भेदा और अपने टारगेट पर वार किया। एयरफोर्स की इस रिपोर्ट के अनुसार बालाकोट में जिस समय ये एयरस्ट्राइक की गई तो वहां मौजूद सभी टारगेट को तबाह कर दिया। 

गौरतलब है कि 26 फरवरी को की गई एयरस्ट्राइक के बाद से ही इसके सबूत सामने रखनी की बात हो रही थी। वायुसेना ने अपने आधिकारिक बयान में कहा था कि उनका मिशन पूरी तरह से सफल रहा है, ऐसे में सबूतों को सामने रखना का फैसला सरकार को ही करना है। आज बुधवार को वायुसेना ने इस संबंध में सरकार को सबूत सौंप दिए हैं।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top