सपा बसपा रालोद के बीच हुआ गठबंधन बेशक आलाकमान को रास आ रहा है। लेकिन, स्थानीय नेताओं के मन का हाल बेहाल है. वे इस गठबंधन में घुटन सी महसूस कर रहे हैं. इसका अंदाज इस बात से लगाया जा सकता है कि समाजवादी पार्टी छोड़कर गए पूर्व विधायक सपा बसपा रालोद की प्रेस वार्ता से नदारद रहे.

वहीं अब कुछ नेताओं ने बसपा से किनारा करने का मन बना लिया है. जल्द बसपा छोड़कर भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो सकते हैं. बसपा के नेता भाजपा के संपर्क में हैं. आगरा में बसपा से एक पूर्व विधायक ने बड़े जोर शोर के साथ समाजवादी पार्टी की सदस्यता ग्रहण की थी. उस दौरान मायावती पर कई गंभीर आरोप लगाए थे.

पूर्व विधायक को उम्मीद थी कि उन्हें लोकसभा 2019 के चुनाव में टिकट मिल जाएगी लेकिन, उनकी उम्मीदों को ध्वस्त कर दिया अखिलेश और मायावती के गठबंधन ने उन्हें कहीं का नहीं छोड़ा. मायावती की बुराई करने वाले अब चुप्पी साधे बैठे हैं. वहीं बसपा से विधानसभा चुनाव 2017 लड़ चुके एक नेता भी इन दिनों पशोपेश की स्थिति में हैं. उन्हें गठबंधन रास नहीं आ रहा है. सूत्र बताते हैं कि जल्द ही वे बसपा से दूर होकर भाजपा का दामन थाम सकते हैं.

आगरा में कई बसपा नेता भाजपा नेताओं के संपर्क में हैं. सूत्र बताते है कि जल्द ही इन्हें भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कराई जाएगी. इसके लिए एक प्लेटफार्म तैयार किया जा रहा है.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top