गुरुवार को भारतीय सेना के तीनों अंगों ने कहा कि वे पूरी तरह सतर्क हैं। उन्होंने बताया कि एक दिन पहले पाकिस्तानी विमानों ने जम्मू-कश्मीर स्थित भारतीय सैन्य ठिकानों को निशाना बनाने की कोशिश, लेकिन उन्हें वापस होना पड़ा. सेना के तीनों अंगों की प्रेसवार्ता में एयर वाइस मार्शल आर.जी.के. कपूर ने मीडिया को बताया कि पाकिस्तान वायुसेना (पीएफए) ने बुधवार को जम्मू-कश्मीर स्थित राजौरी के पश्चिमी इलाके में भारतीय हवाईक्षेत्र का उल्लंघन किया.

पाकिस्तान भारतीय सैन्य ठिकानों को निशाना बनाने की कोशिश में था, लेकिन भारत के मिग, सुखोई और मिराज विमानों द्वारा पाकिस्तानी विमानों को वापस लौटने को मजबूर कर दिया गया.

एयर वाइस मार्शल कपूर ने कहा, ” पाकिस्तान ने दावा किया कि विमानों से खुले इलाके में बम दागे गए, लेकिन असलियत यह है कि पाकिस्तान ने सैन्य ठिकानों को निशाना बनाया, लेकिन उनकी योजनाओं को नाकाम कर दिया. आईएएफ की त्वरित कार्रवाई के कारण कोई खास नुकसान नहीं हुआ.”

उन्होंने कहा, “आईएएफ हमेशा सतर्क है और किसी भी संभावित घटनाओं से निपटने को तैयार है.”

उन्होंने पाकिस्तान के बुधवार को एफ-16 का इस्तेमाल नहीं करने के दावों को खारिज करते हुए कहा मिग-21 बाइसन ने एक एफ-16 को मार गिराया.

मेजर जनरल एस.एस. महल ने कहा कि पीएएफ ने बुधवार को जम्मू-कश्मीर में एक ब्रिगेट मुख्यालय, बटालियन मुख्यालय और लॉजिस्टिक्स के अड्डों को निशाना बनाया. लेकिन भारतीय सैन्य बल की पूरी मुस्तैदी के कारण उनकी योजना विफल रही.

उन्होंने कहा कि भारतीय हथियार प्रणाली को हाई अलर्ट पर रख दिया गया है और यंत्रों से लैस बलों को तैयार रखा गया है. रियर एडमिरल डी. एस. गुजराल ने कहा, “भारतीय नौसेना को पूरी तरह मुस्तैद कर दिया गया. नौसेना जल, थल और नभ तीनों में पाकिस्तान द्वारा समुद्री क्षेत्र में किसी भी प्रकार के दुस्साहस को तोड़ने, उसे रोकने व परास्त करने के लिए तैयार है.” उन्होंने कहा, “मैं आपको आश्वस्त कर सकता हूं कि जरूरत पड़ने पर नौसेना सुनिश्चित, त्वरित और मजबूती से प्रतिकार करेगी.”





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top