बुधवार को उत्तराखंड में गंगा नदी का जल स्तर खतरे के निशान के करीब पहुंच गया है. भारतीय मौसम विभाग की माने तो जल्द ही ये निशान खतरे के स्तर को पार कर जाएगा. हालांकि प्रशासन ने भी भारी बारिश के मद्देनजर पहले से ही अपना काम शुरू कर दिया है.

देश के मैदानी इलाकों के साथ-साथ मानसून का असर पहाड़ी इलाकों पर भी आसानी से देखा जा सकता है. जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में मानसून अपने शबाब पर है. लेकिन बारिश का सबसे ज्यादा असर उत्तराखंड में देखने को मिल रहा है. ऋषिकेश में गंगा नदी का जल स्तर खतरे के निशान के करीब पहुंच गया है. यहां गंगा 338.05 मीटर तक के स्तर पर पहुंच गई है.

मौसम जानकारों की माने तो 11 से 15 जुलाई तक उत्तराखंड में जोरदार बारिश होने के आसार बने हुए हैं. ऐसे में नदी के जल स्तर को खतरे के निशान पार करने में ज्यादा वक्त नहीं लगेगा. यही वजह है कि प्रशासन की ओर से पहले ही इस विपदा से निटपने की तैयारियां कर ली गई हैं. साथ ही एनडीआरएफ की टीम को भी अलर्ट कर दिया गया है.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top