टिहरी झील को विश्व स्तरीय पर्यटन स्थल बनाने की ओर सरकार ने एक और बड़ा कदम बढ़ाया है। लंबे समय से चल रही झील में सी प्लेन उतारने की योजना पर आज मुहर लग गयी है. जिसके बाद अब झील पर सीधे सी प्लेन उतारा जा सकेगा जो कि उत्तराखंड के लिए बहुच बड़ी उपलब्धि होगी. जी हा इसके लिए आज सीएम की मौजूदगी में एमओयू साइन किया गया है.

आपको बता दें कि टिहरी बांध की झील को देश-विदेश के पर्यटकों के लिए बेहतर स्थल बनाने के लिए कई वर्षों से कवायद चल रही है। झील में निरंतर पर्यटकों की संख्या भी बढ़ रही है। अब सरकार ने सी प्लेन के जरिए झील में पर्यटकों को उतारने की योजना को अंतिम रूप दे दिया है।

नागरिक उड्डयन मंत्रालय भारत सरकार, भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण व राज्य सरकार के मध्य एमओयू पर हस्ताक्षर किए

इसी को देखते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत की उपस्थिति में उङान योजना के अंतर्गत टिहरी झील में सी-प्लेन संचालन के लिए वाटरड्रोम की स्थापना के लिए नागरिक उड्डयन मंत्रालय भारत सरकार, भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण व राज्य सरकार के मध्य एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए।

सरकार नागरिक उड्डयन विभाग को कोटी में ढाई एकड़ जमीन पहले ही करवा चुकी है उपलब्ध 

इसी प्रकार नैनी सैनी पिथौरागढ़ में हवाई सेवाओं के सफल संचालन के लिए भी सीएनएस-एटीएम एमओयू पर भी हस्ताक्षर किए गए। आपको बता दें कि इस योजना के लिए सरकार नागरिक उड्डयन विभाग को कोटी में ढाई एकड़ जमीन पहले ही उपलब्ध करवा चुकी है, साथ ही कैबिनेट बैठक में सी प्लेन के ईंधन पर वैट 20 से घटाकर 10 फीसदी करने का निर्णय ले चुकी है।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top