सितारगंज: सितारगंज पुलिस की हिरासत में हुई मौत का मामला लगातार बढ़ता जा रहा है। मामले को लेकर युवक के परिजनों और अन्य ग्रामीणों ने पुलिस पर उनके बेटे की हत्या करने का आरोप लगाया है। लोगों ने सितारगंज चौकी में धरना प्रदर्शन के बाद सड़क जाम कर दी है। लोगों को समझाने का प्रयासा किया जा रहा है, लेकिन लोग मानने को तैयार नहीं हैं। मामले की गंभीतरा को देखते हुए एसएसपी बरिंदरजीत सिंह ने चैकी प्रभारी समेत पांच पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया है।

एसएसपी बरिंद्रजीत सिंह ने सिडकुल पुलिस चैकी प्रभारी समेत 5 पुलिसकर्मियों निलंबित कर दिया। उन्होंने कहा कि प्राथमिक जांच में ये तो साफ है कि लापरवाही हुई है। सिडकुल पुलिस धीरज राणा नाम के युवक को चोरी के आरोप में पूछताछ के लिए उसके घर से उठा लाई थी। जहां हिरासत में उसकी मौत हो गई। पुलिस की मानें तो युवक ने लाॅकअप के गेट पर अपनी शर्ट से फांसी का फंदा बनाकर फांसी लगा दी थी। पुलिस की इस थ्योरी पर लोगों ने सवाल खड़े किए हैं।

पुलिस ने युवक की मौत को आत्महत्या बताया था। खबर उत्तराखंड ने पुलिस की थ्योरी पर पहले ही सवाल खड़े किए थे। लोगों ने भी वही सवाल खड़े किए, जो खबर उत्तराखंड ने उठाए थे। एसएसपी बरिंदरजीत सिंह ने भी सवालों को सही माना और लापरवाही मानते हुए प्राथमिका जांच के बाद चैकी प्रभारी समेत पांच पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top