जॉर्जटाउन (गयाना)|…. टीम इंडिया और वेस्टइंडीज के बीच खेली जाने वाली तीन मैचों की वनडे सीरीज का पहला मुकाबला गुरुवार को यहां के प्रोविडेंस स्टेडियम में खेला जाएगा. टी-20 सीरीज कब्जाने के बाद अब टीम इंडिया का लक्ष्य वनडे सीरीज भी जीतना होगा और वह इसी लक्ष्य के साथ मैदान पर उतरेगी.

विश्व कप की हार से परे हटते हुए टीम इंडिया ने नई शुरुआत की है और वेस्टइंडीज को तीन टी-20 मैचों की सीरीज में 3-0 से हराया है. टी-20 की विश्व विजेता को टीम इंडिया ने हर मैच में लगभग एकतरफा अंदाज में पटखनी दी.

टी-20 और वनडे टीमों में कुछ खिलाड़ी अलग हैं. चहर बंधु दीपक और राहुल वनडे में नहीं हैं जबकि वॉशिंगटन सुंदर भी 50 ओवर के मैच में टीम इंडिया का हिस्सा नहीं होंगे. वनडे में टीम इंडिया की स्पिन जोड़ी कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल वापसी कर रही है. क्रुणाल पांड्या के स्थान पर केदार जाधव वनडे टीम में आए हैं.

विंडीज टीम में भी कुछ बदलाव हुए हैं. वनडे प्रारूप में कप्तानी जेसन होल्डर के जिम्मे है. केरन पोलार्ड टीम में नहीं हैं जबकि रोस्टन चेज, क्रिस गेल, केमार रोच और शाई होप टीम में आए हैं.

होल्डर की टीम विश्व कप में निराशाजनक प्रदर्शन कर बाहर हो गई थी. यह सीरीज मेजबान टीम के लिए अपने आप को खड़ा करने की दिशा में नई शुरुआत हो सकती है.

वहीं, टीम इंडिया की बात की जाए तो वह भी अपनी पुरानी गलतियों को सुधारने के लिए प्रतिबद्ध होगी जिसमें सबसे बड़ी समस्या नंबर-4 बल्लेबाजी क्रम है. टीम के पास इस नंबर के लिए इस समय चार बल्लेबाज- श्रेयस अय्यर, मनीष पांडे, ऋषभ पंत और केदार जाधव हैं, लेकिन जो विश्व कप से देखा गया और टी-20 सीरीज में भी वही देखा गया, वो ये था कि टीम प्रबंधन पंत को नंबर-4 के लिए तैयार करने में लगा हुआ है.

पंत ने आखिरी टी-20 मैच में अर्धशतक भी जमाया था. ऐसे में वनडे में भी यह तय माना जा रहा है कि पंत नंबर-4 पर उतरेंगे.

टीम इंडिया की एक और समस्या उसका कमजोर मध्य क्रम रहा है. इस सीरीज में हार्दिक पांड्या और महेंद्र सिंह धोनी भी नहीं हैं जो कई बार टीम को संभालते दिखे हैं. ऐसे में अय्यर, पांडे और जाधव के पास अपने आप को मध्य क्रम के मजबूत बल्लेबाज के तौर पर स्थापित करने के लिए इस सीरीज से बेहतर मौका नहीं मिल सकता. पांडे ने हालांकि टी-20 में निराश किया था. टीम प्रबंधन उनको बाहर बैठाकर अय्यर को पहले वनडे में आजमा सकता है.

गेंदबाजी की बात की जाए तो चहल और कुलदीप में से कौन अंदर होगा, इस पर कोहली को माथापच्ची करनी होगी. रवींद्र जडेजा का खेलना पक्का लग रहा है.

वहीं, तेज गेंदबाजी में कोहली तीन प्रमुख गेंदबाजों – भुवनेश्वर, सैनी और शमी के साथ के जा सकते हैं.

वेस्टइंडीज की बल्लेबाजी का दारोमदार होप, गेल, शिमरन हेटमायेर, इविन लुइस पर मुख्य रूप से होगा. इन चारों के ऊपर टीम के शीर्ष क्रम को संभालने की जिम्मेदारी होगी.

मध्य क्रम और निचले क्रम में कप्तान होल्डर और कार्लोस ब्रैथवेट को बड़ी भूमिका निभानी होगी.

टीमें (संभावित) :

टीम इंडिया : विराट कोहली (कप्तान), रोहित शर्मा, खलील अहमद, युजवेंद्र चहल, शिखर धवन, श्रेयस अय्यर, रवींद्र जडेजा, केदार जाधव, कुलदीप यादव, भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद समी, मनीष पांडे, ऋषभ पंत, लोकेश राहुल, नवदीप सैनी.

वेस्टइंडीज : जेसन होल्डर (कप्तान), फाबियान ऐलेन, कार्लोस ब्रैथेवट, जॉन कैम्पवेल, रोस्टन चेज, शेल्डन कॉटरेल, क्रिस गेल, शिमरन हेटमायेर, शाई होप, इविन लुइस, कीमो पॉल, निकोलस पूरन, केमार रोच, ओशाने थॉमस.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top