पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान अपना नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान किसी बड़े आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने की फिराक में हैं. इसी क्रम में पाकिस्तान ने चुपके से जैश-ए-मोहम्मद सरगना आतंकी मसदू अजहर को रिहा किया है. जानकारी के मुताबिक, आतंकवादी जम्मू-कश्मीर और राजस्थान के कुछ इलाकों को अपना निशाना बना सकते हैं.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) ने राजस्थान के पास भारत-पाकिस्तान सीमा पर अतिरिक्त पाकिस्तानी सैनिकों की तैनाती के बारे में सरकार को सचेत किया है और कहा है कि इस्लामाबाद किसी बड़ी कार्रवाई की योजना बना रहा है. इसी क्रम में पाकिस्तान ने मसूद अजहर को रिहा किया है. जानकारी के मुताबिक, आतंकी जम्मू-कश्मीर में शांति भंग करना चाहते हैं.

आईबी इनपुट के अनुसार, पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त किए जाने से बौखला उठा है. इसी क्रम में पाकिस्तान आने वाले दिनों में सियालकोट-जम्मू और राजस्थान सेक्टरों में ‘बड़ी कार्रवाई’ की योजना बना रहा है. आईबी ने सरकार को इनपुट दिया है कि पाकिस्तान ने योजना के तहत राजस्थान सीमा के पास अतिरिक्त सैनिकों की तैनाती शुरू कर दी है.

सूत्रों के मुताबिक, आईबी ने इस बाबत सभी जानकारियां सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और सेना को भी दी है. खुफिया एजेंसी ने सुरक्षा एजेंसियों और बलों को जम्मू-कश्मीर और राजस्थान सेक्टरों में किसी भी तरहे के ‘बड़े आश्चर्य’ से अलर्ट रहने को कहा है. आईबी के अधिकारियों के मुताबिक, पाकिस्तानी सेना और आतंकी किसी भी समय बड़ी घटना को अंजाम दे सकते हैं.

दोनों देशों के बीच बढ़ते तनाव के बीच, आईबी इनपुट ने कहा कि पाकिस्तान ने गुप्त रूप से जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मौलाना मसूद अजहर को आतंकवादी ऑपरेशन की योजना बनाने के लिए रिहा कर दिया है, जबकि अन्य आतंकवादी संगठन भी खुले तौर पर काम कर रहे थे. बता दें कि जम्मू- कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को हुए कार बम हमले के बाद अघोषित रिपोर्टें थीं कि पाकिस्तानी एजेंसियों ने अजहर को हिरासत में ले लिया था.

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा समाप्त किए जाने के बाद से पाकिस्तान बैचेन हो उठा है. वह लगातार दुनिया के तमाम देशों से मदद मांग रहा है और भारत के खिलाफ कदम उठाने के लिए कह रहा हैं, लेकिन पीएम इमरान खान को हर जगह असफलता मिल रही है. पाकिस्तान ने कश्मीर का मसला संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में भी उठाया था, लेकिन उसे वहां भी मुंह की खानी पड़ी थी. इसके बाद से पाकिस्तान लगातार कश्मीर मसले पर अलग- थलग पड़ गया है.

पाकिस्तान के प्रधानमत्री इमरान खान भी कश्मीर मसले पर दुनिया के तमाम देशों को अगाह कर चुके हैं. शुक्रवार को इमरान खान ने कहा था कि वैश्विक समुदाय किसी भी ‘विनाशकारी के लिए जिम्मेदार होगा, क्योंकि उसने नई दिल्ली के साथ बढ़ते तनाव के बीच अपनी बयानबाजी जारी रखी. पीएम इमरान ने यह भी कहा था कि दोनों मुल्कों के बीच युद्ध का खतरा है.

इससे पहले पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल क़मर जावेद बाजवा ने कहा कि वे किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार हैं. जबकि पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख राशिद भारत पाकिस्तान के बीच अक्टूबर महीने में युद्ध की बात कह चुके हैं.

वहीं, अंतरराष्ट्रीय मंचों पर भी पाकिस्तान लगातार अकेला पड़ता जा रहा है. एफएटीएफ भी पाकिस्तान को काली सूची में शामिल कर सकता है. इसके अलावा पाकिस्तान लगातार आर्थिक संकटों से भी जूझ रहा है.

साभार -टाइम नाउ 





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top