देहरादून: देश की राष्ट्रीय विरासतों में गिनी जाने वाले देश की सबसे बड़े वन अनुसंधान संस्थानों में से एक एफआरआई यानि फारेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट की भव्य और ऐतिहासिक इमारत पर लगे दाग अब नजर नहीं आएंगे। एफआरआई बिल्डिंग की बदहाली जल्द दूर हो जाएगी। बिल्डिंग पर लगे दोग और बदहाल होते भवनों के लिए केंद्र सरकार दो सप्ताह में बजट जारी कर देगी।

एफआरआई की बिल्डिंग ब्रिटिश काल में बनी थी। लेकिन, अब ये बिल्डिंग बदहाल होने लगी है। इसकी बदहाली की भले ही प्रदेश सरकार को कभी चिंता ना रही हो, लेकिन केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने अपने एफआरआई के पहले ही दौरे में इसकी बिगड़ती सूरत को संवारने का एलान कर दिया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार इसकी सूरत को संवारने के लिए तैयार है और दो सप्ताह में बजट भी जारी कर दिया जाएगा।

एफआरआई में पांचवें दीक्षांत समहारोह में शामिल होने देहरादून आये केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि 100 साल पुरानी एफआरआई की इमारत आकर्षण का केंद्र है, जिसको मरम्मत की जरूरत है। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा था कि ये बिल्डिंग हमारी धरोहर है और उसको बनाये रखना हमारी जिम्मेदारी है। इसके लिए केंद्र सरकार बजट जारी करेगी। उन्होंने एफआरआई से कार्ययोजना मांगी है।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top