देहरादून: बाजार में करवाचौथ व्रत की तैयारियां शुरू हो गई हैं। इस बार करवाचौथ व्रत 17 अक्टूबर का मनाया जाएगा। ज्योतिष के जानकारों का मानना है कि इस बाद करवाचैथ व्रत पर 70 साल बाद खास योग बन रहा है। यह योग बहुत ही मंगलकारी है। इस दिन व्रत करने से सुहागिनों को व्रत का फल मिलेगा।

इस बार 70 साल बाद रोहिणी नक्षत्र के साथ मंगल का योग बन रहा है। जोकि शुभ फलदाई है। इस दिन चतुर्थी माता यानि करवा माता और गणेश जी की भी पूजा की जाती है। इस बार उपवास का समय 13 घंटे 56 मिनट का है। पूरे दिन निर्जला व्रत रखकर महिलाएं शाम को चांद को अर्घ्य देकर व्रत तोड़ती हैं। इस बार चांद 8 बजकर 18 मिनट पर निकलेगा। पूजा का मुहूर्त शाम 5 बजकर 50 मिनट से 7 बजकर 6 मिनट तक है।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top