देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के खिलाफ षडयंत्र की बू इन दिनों उत्तराखंड में नजर आ रही है. कई बार उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की छवि को धूमिल करने के लिए सोशल मीडिया में कई तरह की बातें वायरल की जाती हैं जिससे उनकी छवि को धूमिल किया जाए.

पिछले दो-तीन दिनों से भी मुख्यमंत्री का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है जिसमें मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को श्रीमती कह कर पुकार रहे हैं। जी हां सोशल मीडिया में जब मुख्यमंत्री का यह वीडियो तेजी से वायरल हो रहा था तो सबसे पहले खबर उत्तराखंड ने इसकी सत्यता को परखने का मुद्दा उठाया।

सबसे पहले खबर उत्तराखंड में की थी वीडियो की पड़ताल

खबर उत्तराखंड में वायरल वीडियो की पड़ताल की तो सबसे पहले खबर उत्तराखंड मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के उस दिन के पूरे भाषण को सुना जिस दिन मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत आईआईटी रुड़की में दीक्षांत समारोह के दौरान मंच से भाषण दे रहे थे लेकिन खबर उत्तराखंड ने पहले ही नजर में भांप लिया था यह वीडियो जो वायरल वीडियो मुख्यमंत्री की छवि को खराब कर रहा है वह एडिट किया गया है, क्योंकि भाषण में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सबसे पहले राष्ट्रपति का स्वागत करते हुए देश के पहले व्यक्ति रामनाथ कोविंद का वो आईआईटी रुड़की में स्वागत करते हैं। वहीं उसके बाद मुख्यमंत्री ने अन्य मुख्य अतिथियों का भी स्वागत किया। वहीं रामनाथ गोविंद की पत्नी को स्वागत करते हुए मुख्यमंत्री ने प्रथम महिला का जो कि गलत नहीं था क्योंकि राष्ट्रपति की पत्नी को प्रथम महिला ही कहा जाता है मुख्यमंत्री की छवि धूमिल हो इसी के चलते मुख्यमंत्री के भाषण का वीडियो एडिट किया गया और उसे सोशल मीडिया पर भी शेयर किया गया जिससे कई लोगों ने मुख्यमंत्री के ज्ञान पर तक सवाल उठा दिए लेकिन जिन लोगों ने मुख्यमंत्री के ज्ञान पर सवाल उठाए। उन्हें शायद अब पछतावा हो रहा होगा आखिर उन्होंने भी बिना जांचे परखे वायरल वीडियो पर कमेंट कर दिया। खबर उत्तराखंड के द्वारा वीडियो को गलत ठहराने के बाद चौतरफा वीडियो शेयर करने वालों की निंदा होने लगी वही अब मामला थाने पहुंच चुका है।

इन्होंने कराया मुकदमा दर्ज

जी हां अजबपुर कलां निवासी अनिल कुमार पांडे ने नेहरू कॉलोनी थाने में मुख्यमंत्री के गलत वीडियो को प्रसारित करने और वीडियो के एडिट करने वाले व्यक्ति के खिलाफ तहरीर दे दी है। तहरीर में अनिल कुमार पांडे ने व्यक्ति का नाम जिसने वीडियो एडिट किया है, साथ ही किन-किन फेसबुक पेजों पर वीडियो को वायरल किया गया है उनका भी जिक्र किया गया है। यहां तक की अनिल कुमार पांडे ने वायरल हो रहे वीडियो को रोकने की गुहार पुलिस से लगाई है। अनिल कुमार पांडे ने कहा है कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत बेहतर कार्य कर रहे हैं प्रदेश को विकास की नई ऊंचाइयों पर पहुंचा रहे हैं लेकिन कुछ लोगों को यह पच नहीं पा रहा है और इसलिए उनकी छवि को धूमिल करने की कोशिश की जा रही है.

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को लेकर जब एक गाना बनाया गया था और उसमें मुख्यमंत्री की फोटो भी लगाई गई थी जिस पर उत्तराखंड में विवाद देखने को मिला था जिसके बाद अनिल कुमार पांडे ने नेहरू कॉलोनी थाने में गाने को लेकर मुकदमा दर्ज किया था जिसके बाद गाने से मुख्यमंत्री की वह फोटो हटानी पड़ी थी। ऐसे में देखना यह है कि जब इस बार भी अनिल कुमार पांडे ने मुख्यमंत्री की छवि धूमिल करने को लेकर प्राथमिकी दर्ज कर दी है तो क्या पुलिस मामले में कार्रवाई करती है।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top