देहरादून : एक बार फिर से वन विभाग द्वारा वन मंत्री की अनदेखी की गई. जिससे वन मंत्री हरक सिंह रावत खासा नाराज हो गए और इसका खुलासा खुद वन मंंत्री ने किया. अक्सर देखा जाता है कि वन विभाग के कार्यक्रम में कई बार वन मंत्री हरक सिंह रावत की अनदेखी की गई है. वन मंत्री होकर भी उन्हें विभाग के कार्यक्रम में ही नहीं बुलाया जाता.
जिसका खुलासा खुद हरक सिंह रावत ने करते हुए कहा कि ये मामला उनका नहीं बल्कि प्रदेश के वन मंत्री का है। वन मंत्री के लिए प्रोटोकॉल का पालन तो करना ही पड़ेगा।

आपको बता दें कि 2015 में बने वन मुख्यालय के सभागार के उद्धघाटन का है. बता दें कि मुख्य वन संरक्षक ने 2015 में बने वन मुख्यालय के सभागार के उद्धघाटन के लिए सीएम को चिट्टी लिखी थी जिसका स्थापना दिवस को उद्धघाटन होना था. इसके लिए सीएम त्रिवेंद्र रावत को आमंत्रित किया गया लेकिन खबर है कि वन मंत्री को निमंत्रण नहीं दिया गया. लेकिन बात वन मंत्री हरक सिंह तक पहुंची तो उन्होंने दो साल बाद उद्घाटन को सही न बताते हुए कार्यक्रम में शामिल होने से इनकार कर दिया।

वन मंत्री के अनुसार इसके बाद वन विभाग के अधिकारियों ने मुख्यमंत्री को समारोह के लिए आमंत्रित किया। मुख्यमंत्री ने भी इसमें शामिल होने से इनकार कर दिया।




0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top