छात्राओं के कमरे के बाहर आपत्तिजनक पोस्टर लगाए जाने के बाद बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय के गर्ल्स हॉस्टलों में सख्ती बढ़ा दी गई है। हॉस्टलों में छात्राओं के लिए आते-जाते वक्त आईडी कार्ड दिखाना जरूरी हो गया है। इसके अलावा हॉस्टल के भीतर बर्थ डे सेलिब्रेशन समेत किसी भी तरह के उत्सव पर पाबंदी लगा दी गई है। यशोधरा हॉस्टल समेत कई जगह इसके नोटिस भी चस्पा किए गए हैं, जिसका अब छात्राओं ने विरोध भी करना शुरू कर दिया है।

छात्राओं का कहना है कि मेस में कोई छात्रा शॉर्ट्स पहनकर आ जाती है तो उसे खाना नहीं दिया जाता। कहा जाता है कि प्रॉपर ड्रेस में आइये, जबकि पहले ऐसा कोई नियम नहीं था। हाल में एक हॉस्टल में दो लड़कियों को मेस से बाहर कर दिया गया।नोटिस में यह भी लिखा है कि छात्रा के किसी भी परिचित को अब हॉस्टल में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। अगर कोई सहेली पढ़ाई के लिए भी हॉस्टल में आना चाहती है तो वह नहीं आ सकेगी। इसके अलावा अगर घर से मां या बहन आना चाहती हैं तो उनके लिए भी एक दिन पहले लिखित अनुमति लेनी होगी, तभी उन्हें हॉस्टल में रुकने दिया जाएगा।

सख्ती के बारे में पूछने पर बीबीएयू की प्रवक्ता डॉ. रचना गंगवार ने कहा कि नोटिस पर पहले चर्चा हो चुकी है। बर्थ-डे या उत्सव पर बैन का आदेश हटा दिया गया है। कहीं नोटिस लगा है तो उसे हटाया जाएगा। मेस में पुरुष कर्मचारी भी काम करते हैं। इसी कारण मेस में शॉर्ट्स पहनने को मना किया गया है। बाकी प्रवेश और अतिथियों के आने-जाने के नियम हॉस्टल मैनुअल का हिस्सा है।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top