देहरादून : देहरादून सहित उत्तराखंड पुलिस विभाग में बीते दिन उस वक्त हड़कंप मच गया जब पोक्सो एक्ट के आरोपी जो की सहसपुर थाने के जेल में बंद था, का शव जेल में बरामद हुआ। पुलिसकर्मियों ने बताया कि कैदी ने आत्महत्या की है जिसके बाद पुलिस जांच में जुटी की आखिर सच्चाई क्या है.वहीं बड़ी खबर है कि एसपी सिटी श्वेता चौबे की जांच रिपोर्ट आने के बाद सहसपुर थाने के अज्ञात पुलिसकर्मियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया।

दरअसल मेडिकल की नाबालिग छात्र के साथ दुष्कर्म करने और वीडियो-अश्लील फोटो वायरल करने के मामले में सहसपुर थाने की पुलिस ने आरोपित अभिनव निवासी दिल्ली को शुक्रवार की शाम गिरफ्तार किया था। उसे सहसपुर थाने की जेल में रखा गया था, जहां देर रात उसने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। मामला में एसएसपी ने एसओ पीडी भट्ट और विवेचक लक्ष्मी जोशी को लाइन हाजिर किया जबकि संतरी ड्यूटी पर लगे दो सिपाही महेंद्र सिंह नेगी और सर्वेश कुमार को निलंबित किया औऱ साथ ही जांच एसपी सिटी सौंपी थी।

वहीं जांच में पुलिकर्मियों की लापरवाही सामने आई जिसके बाद अज्ञात पुलिस कर्मियों के खिलाफ अभिनव को अवैध तरीके से हिरासत में रखने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया है।

इस पर देहरादून एसएसपी अरुण मोहन जोशी का कहना है कि इस मामले की निष्पक्ष जांच की जा रही है। प्रारंभिक जांच में पुलिसकर्मियों की लापरवाही सामने आई है जिसके बाद अज्ञात पुलिसकर्मियों पर मुकदमा दर्ज किया गया है। वहीं जांच अब एसपी क्राइम लोकजीत सिंह को सौंपी गई है।




0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top