केंद्रीय जांच ब्यूरो(सीबीआई) ने यूपी के प्रतापगढ़ जिले में डाक विभाग के दो अधिकारियों के खिलाफ एक कमीशन एजेंट से सेवा शुल्क की आड़ में कथित रूप से 100 रुपये की रिश्वत मांगने का मामला दर्ज किया है. प्रतापगढ़ के कुंडा तहसील के प्रभात कुमार सिंह द्वारा लखनऊ में सीबीआई को की गई एक शिकायत के आधार पर 30 नवंबर को प्राथमिकी दर्ज किया गया था.

शिकायतकर्ता ने दावा किया कि वह अपनी पत्नी के साथ नियमित रूप से डाकघर जाता था, जहां वह उन लोगों से लिए पैसे जमा करता था जो अपनी बचत को डाकघर की बचत योजनाओं में लगाना चाहते थे. उनकी पत्नी कुंडा में पोस्ट ऑफिस के लिए कमीशन एजेंट के रूप में काम करती हैं और उन्हें वहां से नियमित कमीशन मिलता है.

सिंह की शिकायत के अनुसार, जो अब प्राथमिकी का हिस्सा है, डाकघर में दो अधिकारी – संतोष कुमार सरोज (सुपरवाइजर) और सूरज मिश्रा (डाक सहायक)- ने उन्हें बताया कि डाकघर में उन्हें जमा हर 20,000 रुपये में से 100 रुपये रिश्वत देनी होगी.

सिंह 27 नवंबर को अपनी पत्नी की ओर से 60,000 रुपये जमा करने के लिए डाक घर गए थे, जिसके लिए सरोज और मिश्रा ने उनसे 300 रुपये रिश्वत ली थी.

इससे पहले, आरोपी डाक विभाग के कर्मचारियों ने 99,400 रुपये और 59,920 रुपये की जमा राशि के लिए 500 रुपये और 300 रुपये लिए थे जिसे सिंह और उनकी पत्नी ने क्रमश: 25 और 26 नवंबर को जमा किए थे. सरोज और मिश्रा ने सिंह और उनकी पत्नी को बताया कि जो पैसा वे चार्ज कर रहे हैं, वह एक सेवा शुल्क है.

उन्होंने यह भी धमकी दी थी कि अगर पैसे नहीं दिए तो पोस्ट ऑफिस के साथ उनकी पत्नी जो काम कर रही हैं, उसे रोक दिया जाएगा. सीबीआई सूत्रों ने कहा कि एजेंसी ने आरोपों का सत्यापन किया और उन्हें सही पाया.

सीबीआई के एक प्रवक्ता ने कहा, “सीबीआई ने एक सार्वजनिक शिकायत में हस्तक्षेप किया जहां गरीब ग्रामीणों को अपने स्वयं के धन को जमा करने के लिए रिश्वत देनी पड़ी (पोस्ट ऑफिस में) है. गरीब ग्रामीण लोगों की सहायता करने की आवश्यकता थी. इस कार्यप्रणाली ने क्षेत्र के कई गांवों को प्रभावित किया है.”





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top