चंपावत के टनकपुर तहसील क्षेत्र में पूर्णागिरी मार्ग स्थित किरोड़ा नाले में रिवर ट्रेनिंग के माध्यम से खनन कराने की तैयारी को लेकर  प्रशासन और ग्रामीणों के बीच हुई बैठक में थ्वालखेड़ा और गैंडाखाली के ग्रामीण एकजुट होकर खनन के विरोध में उतर आएं। ग्रामीणों ने कहा कि अगर शासन व प्रशासन द्वारा किरोड़ा नाले में जबरन खनन शुरू कराया जाता है। तो वह उसका पुरजोर विरोध करेंगे, विरोध के चलते एसडीएम को मीटिंग छोड़ कर जाना पड़ा|

टनकपुर शारदा क्षेत्र में रिवर ट्रेनिंग के तहत किरोड़ा नाले में खनन शुरू कराने को लेकर नायकगोठ, थ्वालखेड़ा व गैड़ाखाली के ग्रामीणों के साथ एसडीएम की अध्यक्षता में बैठक बुलाई गई, किरोड़ा नाले से खनन शुरू कराने की सूचना के बाद थ्वालखेड़ा और गैंडाखाली के ग्रामीण एकजुट हो गए और उन्होंने बैठक में मौजूद एसडीएम टनकपुर से किसी भी सूरत में नाले से खनन शुरू ना होने देने की बात कहीं, ग्रामीणों का कहना था कि वर्ष 2018 में अभी प्रशासन द्वारा नाले से खनन शुरू कराने की पहल की गई थीं जिस पर उस समय भी ग्रामीणों द्वारा विरोध दर्ज कराया गया था, जिसके बाद नाले से रिवर ट्रेनिंग के माध्यम से होने वाले खनन को रोक दिया गया था।

वहीं ग्रामीणों के साथ बैठक करने पहुंचे एसडीएम टनकपुर दयानंद सरस्वती ने बताया कि  रिवर ट्रेनिंग के माध्यम से किरोड़ा नाले से होने वाले खनन को लेकर ग्रामीणों द्वारा विरोध दर्ज कराया गया हैं जिसकी रिपोर्ट जल्द ही उच्चाधिकारी को भेज दी जाएगी।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top