कोटद्वार : देश और दुनिया में कोरोना का कहर जारी है। कोरोना की रोकथाम के लिए सरकार कई प्रयास कर रही है जिसमे पुलिस का भी खासा योगदान है। राज्य सरकारों द्वारा राज्य भर में संदिग्ध जगहों पर और आवश्यक जगहों पर सैनिटाइजर का छिड़काव किया जा रहा है लेकिन पौड़ी गढ़वाल जिले के कोटद्वार से एक ऐसा मामला सामने आया है कि कोटद्वार के लोगों में रोष है।

दरअसल कोटद्वार नगर निगम क्षेत्र में सेनेटाइजिंग करने के लिये नगर निगम द्वारा मशीनें खरीदी गई जिन्होंने जवाब दे दिया। हैरान तो तब हुई जब छिड़काव के लिए खरीदे गये सेनेटाइजर ड्रमों में सेनेटाइजर की जगह पानी निकला। जी हां ये आरोप नगर निगम कोटद्वार के पार्षदों ने लगाया है।

नगर निगम में खरीदारी में घोटाले का आरोप

आरोप लगाते हुए पार्षदों ने कहा कि निगम के अधिकारियों/कर्मचारियों की मिलीभगत से मशीनों सहित अन्य सामान की खरीदारी में घोटाले किये जा रहे हैं। पार्षदों ने इसके खिलाफ आवाज उठाते हुए नगर निगम कार्यालय में प्रदर्शन कर उपजिलाधिकारी के माध्यम से प्रदेश के मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा औऱ जल्द ही मामले की जांच कराकर दोषियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की मांग की है।

दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करने की मांग 

पार्षदों का आऱोप है कि नगर निगम द्वारा कीटनाशक दवाइयों के छिड़काव के लिए स्प्रे मशीनों की खरीदारी की गई, लेकिन यह सब मशीनें खराब पड़ी है। नतीजा क्षेत्र में कहीं भी छिड़काव नहीं हो रहा है। कहा कि निगम द्वारा आपदा सामग्री की खरीद फरोख्त में कमीशनखोरी के कारण घटिया माल खरीदा जा रहा है। निगम द्वारा अपने चहेतों को लाभ देने के उद्देश्य से कोटद्वार की जनता के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। आलम यह है कि सैनेटाइजर की जगह पानी के ड्रम खरीदें जा रहे है। उन्होंने कहा कि यदि कोई शिकायत करता है तो स्थानीय प्रशासन उन्हें धमका रहा है कि शिकायत कर्ता के खिलाफ कार्रवाई की जायेगी। पार्षदों ने दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करने की मांग की।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top