चीन ने पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी में भारत-चीन सीमा पर हिंसक झड़प हुई जिसमे पहले कर्नल समेत तीन जवानों की शहादत की खबर आई लेकिन बादमे साफ हुआ कि 3 नहीं बल्ककि 20 जवान शहीद हुए है। चीन ने भारत के साथ धोखा करते हुए हमला किया औऱ देश के 20 जवान शहीद हो गए। हालांकि उनके भी 40 से अधिक जवान मारे जाने की खबर है।

इसके बाद देशभर के लोगों में गुस्सा है और सीमा पर चनाव बढ़ गया है। दोनों देशों के बीच अधिकारियों की बातचीत जारी है। वहीं इसको देखते हुए भारत सरकार अभी से चौकन्नी हो गई है. अर्धसैनिक बलों के साथ सेना अलर्ट मोड पर है. ऐसे में सरकार ने उत्तराखंड से जुड़ने वाली चीन की सीमा पर भी सेनाओं की तैनाती बढ़ा दी है. मंगलवार से ही सेना के सैकड़ों वाहनों की आवाजाही उत्तराखंड के सीमावर्ती इलाकों में हुई है.

जी हां जानकारी मिली है कि बुधवार रात को सेना के करीब 80 वाहनों में भारतीय सैनिक चमोली से लगे चीन सीमा क्षेत्र के लिए रवाना हुए हैं। वहीं खबर है कि हालातों को देखते हुए जवानों की छुट्टियां रद्द कर दी गई है और चौकसी बढ़ाई गई है।

आपको बता दें कि उत्तराखंड राज्य करीब 345 किलोमीटर लंबी भारत-चीन सीमा साझा करता है. अब इन सीमाई इलाकों में बड़ी संख्या में भारतीय सैनिकों की तैनाती की जा रही है. चौकसी बढ़ा दी गई है। खास तौर पर सैनिकों को वहां लगाया गया है।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top