एलएसी पर चीन के साथ हिंसक झड़प में शहीद कर्नल संतोष बाबू सहित तीन जवान शहीद हो गए। हालांकि बाद में खबर आई कि देश के 20 जवान शहीद हुए। वहीं कर्नल संतोष बाबू का पार्थिव शरीर आज हैदराबाद पहुंचेगा और शाम 4 बजे अंतिम संस्कार किया जाएगा. शहीद कर्नल की पत्नी और बच्चे दिल्ली से हैदराबाद पहुंच गए हैं. बाकी परिवार हैदराबाद में है.

कर्नल संतोष बाबू की शहादत पर मां और पिता को गर्व

कर्नल संतोष बाबू की शहादत पर मां और पिता को गर्व है। उनकी मां का कहना है कि वो मेरा इकलौता बेटा था लेकिन वो देश के लिए शहीद हुआ उन्हें इस पर गर्व है क्योंकि वो देश के लिए कुर्बान हुआ। उन्हें बस दुख इस बात का है कि वो उनका इकलौता बेटा अब कभी वापस नहीं आएगा. कर्नल की शहादत की खबर से नालगोंडा जिले (तेलंगाना) के सूर्यपेट शहर सहित पूरे देश में शोक की लहर है.

पिता बोले-बेटे पर गर्व

बेटे की शहादत पर शहीद कर्नल संतोष बाबू के पिता बी उपेंदर का कहना है कि वह केवल 37 साल का था और उसके सामने एक सुनहरा भविष्य था. दुख जरुर है लेकिन बेटे पर गर्व है कि एक भारतीय नागरिक और सैनिक फैमिली का हिस्सा होने के कारण मुझे बेटे पर गर्व है.

कर्नल की 9 साल की बेटी और 4 साल का बेटा

आपको बता दें कि कर्नल संतोष 16 बिहार रेजिमेंट के कमांडिंग ऑफिसर थे और डेढ़ साल से सीमा पर तैनात थे. वह अपने पीछे पत्नी संतोषी, एक 9 साल की बेटी अभिनव और एक 4 साल का बेटा अनिरुद्ध को छोड़ गए हैं.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top