देहरादून : हरीश रावत ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर बीते दिनों एक पोस्ट शेयर की थी। इस पोस्ट में हरीश रावत ने टिहरी के ग्राम गैड़, पीओ.ख्यार्सी, ब्लॉक-जौनपुर की प्रिया की काबिलियत, हिम्मत तारीफ की और धन्यवाद अदा किया था। वहीं इसके बाद प्रिया ने भी हरदा को धन्यवाद अदा किया और एक पत्र हरीश रावत  के लिए लिखा।

हरीश रावत की पोस्ट

हरीश रावत ने अपने फेसबुक वॉल पर लिखा कि जौनपुर के गैड गांव की प्रिया पंवार, जो हमारी एक साहसी, बहुत ही समझदार उत्तराखंडी बेटी है, उसकी हल चलाते हुये, अखबारों में छपे समाचार को देखकर, मैंने उसे बधाई दी थी और अपने मन की इच्छा जाहिर की थी कि, उसके गांव पहुंचकर मैं, उसको बधाई देने का साहस जुटाऊंगा, उसका एक बहुत ही भावपूर्ण पत्र मुझे मिला, बहुत प्रेरणादायक पत्र है। कई लोग, जो ग्रामीण क्षेत्रों में खोले गये महाविद्यालयों, आई.टी.आई., पॉलिटेक्निक व इंटर कॉलेजों को हरीश_रावत की फिजूल खर्च बताकर, इन संस्थाओं को बंद कर रहे हैं। उनकी आंखें इस पत्र को पढ़ने से खुल जानी चाहिये। #शाबाश, प्रिया बेटी।

हरीश रावत ने किया था हल चलाने वाला वीडियो शेयर

आपको बता दें कि बीते दिनों हरीश रावत ने प्रिया का हल चलाते हुए वीडियो अपने सोशल मीडिया अकाउंट में शेयर किया था जिसके बाद प्रिया ने पूर्व सीएम हरीश रावत का धन्यवाद अदा किया कि उन्होंने उसको महत्वता दी और उसका वीडियो शेयर किया। प्रिया ने हरीश रावत के लिए एक पत्र भेजा और घर आने का न्यौता दिय़ा। साथ ही प्रिया ने दूर दूराज स्कूल जाने की बात औऱ उससे होने वाली दिक्कत का भी पत्र में जिक्र किया। प्रिया ने हरीश रावत के लिए लिखा किजैसे आपने मुझे समझा काश हमारी सरकार और अधिकारी भी समझते।

प्रिया ने बयां की पीड़ा

प्रिया ने लिखा कि 10वीं-12वीं की पढ़ाई के लिए उन्हें 10-12 किमी. दूर जाना होता है और आकर घर का काम भी करना होता है। प्रिया ने कहा कि ये सिर्फ उसकी पीड़ा नहीं है बल्कि गांव की कई लड़कियों की पीड़ा है।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top