भारत-चीन के बीच हुई इस हिंसक झड़प में देश के 20 जवान शहीद हो गए। देशभर के लोगों ने चीन के खिलाफ गुस्सा जाहिर किया और चीनी सामान के बहिष्कार की अपील पूरे देश से की।

देश ने 20 जवान खोए हैं। जिनमे से अधिकतर जवान बिहार, बंगाल, पंजाब से थे। वहीं इस झड़प में पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले के रहने वाले राजेश ओरांग भी शहीद हो गए. जैसे ही राजेश ओरांग के इस हमले में शहीद होने की खबर उनके घर तक पहुंची, घर में शोक की लहर दौड़ गई. परिवार वालों का रो रोकर बुरा हाल है। शहीद का परिवार चीन से बदला लेने की मांग कर रहा है।

जानकारी मिली है कि 26 साल के शहीद जवान राजेश की इसी महीने शादी होने वाली थी. राजेश 2015 में सेना में भर्ती हुए थे जिसके बाद उन्हें चीन बॉर्डर पर लद्दाख में तैनात कर दिया गया। वो छुट्टी आने वाले थे लेकिन लॉकड़ाउन के कारण नहीं आ पाए लेकिन उनकी शहादत की खबर घर आई। बुधवार को पश्चिम बंगाल के बीरभूम में उनका अंतिम संस्कार किया गया. उनके परिजनों के मुताबिक, वह सितंबर 2019 में आखिरी बार घर आए थे और करीब 2 हफ्ते पहले फोन पर आखिरी बार बात की थी. राजेश की शहादत पर उनके परिवार समेत पूरे गांव वालों को गर्व है





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top