देहरादून आईएमए में 13 जून को पासिंग आउट परेड हुई थी जिसमे देश को 333 सैन्य अफसर मिले। उत्तराखंड से 31 युवा सेना में अफसर बने। वहीं कुल मिलाकर 423 कैडेट्स पास आउट हुए।कहते हैं अगर इच्छाशक्ति मजबूत और हौसले बुलंद हो तो दुनिया की कोई ताकत आपको लक्ष्य तक पहुंचने से नहीं रोक सकती.

कद कम लेकिन हौसले बुलंद

लेकिन पास आउट एक सैन्य अधिकारी काफी चर्चाओं में है। इस सैन्य अफसर की तस्वीर सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही है और लोग अधिकारी को सलाम कर रहे हैं। जी हां उनका नाम लेफ्टिनेंट Lalhmachhuana जिनका कद औरों के मुकाबले काफी कम है लेकिन उनके हौसले उतने ही बुलंद हैं।

सीएम ने की युवा अफसर की तारीफ

बता दें कि सेना में लेफ्टिनेंट बने ललमाचुआना मिजोरम के हैं और मिजोरम के मुख्यमंत्री जोरामथांगा ने उनकी तारीफ में एक ट्वीट किया और लिखा कि जिसके बाद इनकी कहानी बहुत से लोगों को प्रेरित कर रही है! सीएम जोरामथांगा ने 14 जून के दिन इन तस्वीरों को शेयर किया। उन्होंने कैप्शन में लिखा कि मिजोरम को गर्व है अपने खुद के Lt. Lalhmachhuana पर, जो उत्तरी रामहलुन में रहने वाले Lalsangvela के बेटे हैं। Lt. Lalhmachhuana को भारतीय सेना की प्रतिष्ठित आर्टिलरी रेजिमेंट में अधिकारी बनाया गया है।

फोटो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल, हर कोई कर रहा सलाम

वहीं अब छोटे कद के अधिकारी की फोटो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रही है। तस्वीर में वो अपने दोस्तों के साथ खड़े हैं जो की उनके साथ सैन्य अधिकारी बने। ये युवा सैन्य अधिकारी उन सभी युवाओं के लिए एक संदेश हैं जो कम हाइट का रोना रोते हैं और किसी भी प्रतियोगिता में भाग लेने से कतराते हैं।

वहीं बता दें कि इसकी जानकारी नहीं मिली है कि सैन्य अफसर ललमाचुआना का कद कितना है। वहीं मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार वह एसटी श्रेणी से आते हैं। इस मामले में पूर्वोत्तर, असमिया, गोरखाओं और अन्य आदिवासियों के लिए छूट है। इस श्रेणी के उम्मीदवारों के लिए स्वीकार्य न्यूनतम ऊंचाई 152 सेमी है। बता दें कि भारतीय सेना में भर्ती होने के लिए एक अधिकारी की हाइट कम से कम 157 सेमी होनी अनिवार्य है।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top