भारत-चीन एलएसी विवाद में हमीरपुर का 21 साल का जवान शहीद हो गया। जानकारी मिली है कि शहीद जवान अंकुश ठाकुर साल 2018 में पंजाब रेजीमेंट में भर्ती हुआ था और रंगरुटी काटकर 10 महीने पहले ही सेना में नौकरी ज्वॉइन की थी।

मिली जानकारी के अनुसार शहीद अंकुश ठाकुर उपमंडल भोरंज के गांव कड़होता का रहने वाला था। अंकुश ठाकुर के पिता और दादा भी भारतीय सेना में सेवाएं दे चुके हैं।  शहीद का छोटा भाई कक्षा छह में पढ़ाई कर रहा है। जैसे ही अंकुश की शहादत की खबर गांव पहुंची तो ग्राम पंचायत कड़ोहता सहित पूरे हमीरपुर जिले में शोक की लहर दौड़ गई।

ग्राम पंचायत कड़ोहता के वार्ड पंच विनोद कुमार ने बताया कि उन्हें सेना मुख्यालय से फोन पर सूचना मिली है कि पंचायत का रहने वाला सैनिक अंकुश ठाकुर भारत-चीन एलएसी झड़प के दौरान शहीद हो गया है। अंकुश के शहीद होने की सूचना अभी तक जिला प्रशासन को भी नहीं है। भोरंज के एसडीएम डॉ अमित शर्मा ने भारतीय सैनिक अंकुश ठाकुर के शहीद होने की पुष्टि की है।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top