केदारनाथ से वासुकीताल-त्रियुगीनारायण में ट्रैकिंग पर गए और लापता हुए चार दोस्तों को आखिरकार उत्तराखंड की एसडीआरएफ टीम ने ढूंढ निकाला। जिसके बाद चारों युवकों के परिवार वालों की सांस में सांस आई। जानकारी मिली है कि चारों लापता दोस्तों को एसडीआरएफ ने 3 दिन बाद तोषी के जंगल से सुरक्षित निकाला और त्रियुगीनाराय़ण वापस लेक आए।

जानकारी मिली है कि ये सभी दोस्त 13 जुलाई को केदारनाथ बाबा के दर्शन करने आए थे और उसके बाद वासुकीताल में ट्रेकिंग  के लिए रवाना हुए और तभी से लापता थे। चारों लापता दोस्त हैं जिनमे से दो देहरादून और दो नैनीताल के हैं। इनमे देहरादून निवासी हिमांशु और जितेंद्र भंडारी व नैनीताल निवासी मोहित भट्ट और जगदीश बिष्ट शामिल थे। लापता युवकों की खोजबीन के लिए एसडीआरएफ की पांच टीमें लगाई गई थीं। 14 जुलाई से इनकी खोजबीन शुरू की गई थी। मौसम की खराबी के चलते भी रेस्क्यू टीम को दिक्कतों का सामना करना पडा। एसडीआरएफ के लिए खराब मौसम में लापता लोगों को ढूंढना चुनौती भरा था।इसके साथ घना जंगल और स्मार्ट फोन न होने से लोकेशन पता नहीं चल सकी।

वहीं जानकारी मिली कि बीते दिन सुबह करीब 7.45 पर लापता युवकों से सम्पर्क हुआ लेकिन लोकेशन ट्रेस नहीं हो पाई। वो भी लोकेशन के बारे में नहीं बता पाए। मोबाइल पर टीम ने इन दोस्तों को आग जलाने और धुआं करने को कहा लेकिन घने जंगल में धुएं से भी कोई अंदाजा नहीं लगाया जा सका था। दोपहर के वक्त इनसे संपर्क हुआ। लोकेशन पता चलते ही तोषी के जंगल में इन्हें खोज लिया गया। वहीं एसडीआरएफ को चारों युवकों द्वारा धन्यवाद दिया गया और एसडीआरएफ की कर्तव्यनिष्ठा को सराहा गया।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top